भारतीय टीम आईपीएल के बाद ऑस्ट्रेलिया का दौरा करेगी. यहां 3-3 मैचों की वनडे और टी20 इंटरनैशनल सीरीज खेलने के बाद दोनों टीमें बहुप्रतीक्षित टेस्ट सीरीज का आगाज करेंगी. टीम इंडिया ने अपने पिछले दौरे पर कंगारू टीम को यहां टेस्ट सीरीज में 2-1 से मात दी थी. यह पहला मौका था, जब कोई एशियाई टीम कंगारुओं को उसके घर में हराकर आई हो. अब कंगारू टीम एक बार फिर अपनी इस हार का बदला लेने के लिए बेकरार है. Also Read - 5 दिन के एक मैच से नहीं पता चलेगा कि टीम के रूप में हम कैसे हैं: Virat Kohli

ऐसे में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व दिग्गज कप्तान स्टीव वॉ (Steve Waugh) ने अपनी टीम को सलाह दी है कि वह इस सीरीज के लिए विराट कोहली (Virat Kohli) से खेल के दौरान जुबान से न उलझने की सलाह दी है. स्टीव वॉ का मानना है कि अगर कंगारू खिलाड़ियों ने ऐसा किया तो टीम इंडिया को इससे अच्छे प्रदर्शन करने की प्रेरणा मिलेगी. Also Read - ईयान चैपल ने माना भारत के गेंदबाजों का लोहा, शेन वार्न बोले- विराट के पास हैं ज्‍यादा मैच विनर

बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी 17 दिसंबर से एडीलेड ओवर पर डे-नाइट मैच से शुरू होगी. इसके बाद बॉक्सिंग डे टेस्ट (26 दिसंबर से) मेलबर्न में, फिर सिडनी टेस्ट ( जनवरी से) और ब्रिसबेन टेस्ट (15 जनवरी) में खेला जाएगा. 27 नवंबर को वनडे सीरीज का पहला मैच खेला जाएगा. Also Read - IND vs NZ, ICC World Test Championship Final 2021: इयान चैपल ने Virat Kohli को बताया 'तेजतर्रार', खिताबी मुकाबले को लेकर कहा...

55 वर्षीय स्टीव वॉ ने ईएसपीएन क्रिकइन्फो पर पोस्ट किए गए एक वीडियो में कहा, ‘स्लेजिंग से विराट कोहली को कोई परेशानी नहीं होगी. महान खिलाड़ियों पर इसका असर नहीं पड़ता. इससे इससे दूर ही रहें. इससे उन्हें (विराट) को रन बनाने की और अतिरिक्त प्रेरणा मिलेगी.’

इस पूर्व कप्तान ने कहा, ‘विराट कोहली वर्ल्ड लेवल के खिलाड़ी हैं और वह सीरीज में सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज रहना चाहते हैं. पिछली बार वह और स्टीव स्मिथ (Steve Smith) भारत में आमने-सामने थे, जिसमें स्मिथ 3 शतक लगाकर आगे रहे थे. यह उनके जेहन में होगा और इस बार वह ज्यादा रन बनाना चाहेंगे.’

उन्होंने कहा कि बतौर खिलाड़ी विराट अब पहले से कहीं अधिक नियंत्रित हैं और वह भारत को विदेश में जीत दिलाने को भी बेताब हैं। उन्होंने कहा, ‘वह चाहते हैं कि टीम इंडिया विदेश में जीतकर नंबर 1 की अपनी रैंकिंग के साथ न्याय करे. वह टीम को उस मुकाम तक ले गए हैं, जहां वह पहले नहीं गई.’