भारतीय जूनियर हॉकी टीम को सुल्तान जोहोर कप में जापान ने 3-4 से हरा दिया है जो टूर्नामेंट में टीम की पहली पराजय है.

एमसी मैरीकॉम ने वर्ल्ड चैंपियनशिप में AIBA की टैक्निकल कमेटी के नियम पर उठाए सवाल

भारत के लिए गुरसाहिबजीत, शारदा नंद तिवारी और प्रताप लाकड़ा ने गोल किए लेकिन टीम जापान से एक गोल से पीछे रह गई.

जापान ने मैच के शुरुआती क्षणों में ही आक्रामक खेल के दम पर पेनल्टी कॉर्नर हासिल किया और वतारू मात्सुमोतो ने उसे गोल में बदल कर टीम का बढ़त दिला दी. भारतीय टीम को तीसरे मिनट में पेनल्टी कॉर्नर मिला लेकिन प्रताप लाकड़ा के प्रयास को ताकुमि कितागवा ने नाकाम कर दिया.

दूसरे क्वार्टर में भारत बराबरी करने के ज्यादा मौके बनाए लेकिन टीम जापान की रक्षापंक्ति को नहीं भेद सकी. इस बीच जापान ने मैच के 22वें मिनट में दूसरा गोल दाग दिया. कोसेइ कवाब ने पेनाल्टी कॉर्नर को गोल में बदला जिससे टीम मध्यांतर से पहले 2-0 से आगे हो गई.

दोनों टीमों के बीच तीसरे क्वार्टर में करीबी मुकाबला रहा जहां मध्यांतर के तुरंत बाद भारत को दूसरा पेनल्टी कार्नर मिला और मंदीप मोर के शॉट को गुरसाहिबजीत ने गोल में बदल दिया. इसके दो मिनट के बाद ही केइता वतानाबे जापान के पांचवें पेनल्टी को गोल में बदल कर टीम को 3-1 से आगे कर दिया. कोसेइ कवाबे ने 37वें मिनट में जापान के लिए चौथा गोल दागा.

शोएब अख्‍तर बोले- सौरव गांगुली ने भारतीय क्रिकेट को बदला है, अब…

एक मिनट के बाद शारदा नंद के ड्रैग फ्लिक से भारत ने वापसी की और स्कोर 4-2 हो गया.

अंतिम क्वार्टर में भारत ने आक्रामक खेल का सहारा लिया और लगातार जापान के सर्किल में पहुंच कर हमले किया. टीम को 53वें मिनट में इसका फायदा पेनल्टी कॉर्नर के रूप में मिला जिसे प्रताप लाकड़ा ने गोल में बदल दिया. भारतीय टीम को इसके बाद कोई सफलता नहीं मिली.

भारतीय टीम का अगला मुकाबला बुधवार को ऑस्ट्रेलिया से होगा.