भारत के उभरते स्टार टेनिस खिलाडी सुमित नागल ने इतिहास रचते हुए अर्जेटीना में खेले गए ब्यूनस आयर्स एटीपी चैलेंजर्स टेनिस टूर्नामेंट का खिताब जीत लिया है। 22 वर्षीय सुमित के करियर में घर के बाहर जीता गया अब तक का ये पहला खिताब हैं।

सातवीं सीड सुमित ने रविवार रात खेले गए फाइनल में अर्जेंटीना के खिलाड़ी फाकुंडो बैगनिस को सीधे सेटों में 6-4, 6-2 से मात देकर खिताब अपने नाम किया। भारतीय खिलाड़ी ने एक घंटे 37 मिनट में ये मुकाबला जीता।

सुमित को हाल में बांजा लूका चैलेंजर्स के फाइनल में हार का सामना करना पड़ा था, लेकिन इस बार उन्होंने कोई गलती नहीं की और ब्यूनस आयर्स एटीपी चैलेंजर्स खिताब जीतकर ही दम लिया। भारतीय खिलाड़ी ने 2017 में बेंगलुरु में अपना पहला खिताब जीता था।

विश्व चैंपियनशिप में सातवें स्थान पर रही भारत की 4×400 मीटर मिश्रित रिले टीम

इस जीत के बाद सुमित एटीपी की ओर जारी होने वाली ताजा एटीपी रैंकिंग में 159वें नंबर से 135वें नंबर पर पहुंच जाएंगे। सुमित के इस फाइनल मैच के दौरान अर्जेंटीना में भारत के राजदूत दिनेश भाटिया और काफी संख्या में भारतीय दर्शक भी मौजूद थे, जोकि सुमित का हौसला बढ़ा रहे थे।

सुमित साउथ अमेरिकन क्ले पर खिताब जीतने वाले पहले भारतीय बन गए हैं।

उन्होंने इस खिताबी जीत के बाद कहा, “ये काफी शानदार था। मैं यहां अकेले आया था। मेरे साथ मेरे कोच (सासा नेंनसेल) और ट्रेनर (मिलोस गागेलिक) भी नहीं थे। कोच के बिना खेलना मुश्किल होता है। लेकिन अब यहां ट्रॉफी उठाना मेरे लिए वाकई शानदार है और मुझे खुद पर गर्व है।”

उन्होंने कहा, “आज मैं यहां खिताब जीता हूं और अब मुझे अगले सप्ताह ब्राजील जाना है। जहां एक और चैलेंजर टूर्नामेंट खेलना है। इसलिए मेरे पास इस जीत का जश्न मनाने का समय नहीं है। मुझे अभी भी काफी मेहनत करने की जरूरत है ताकि मैं अपने प्रदर्शन में और सुधार कर सकूं।”

रिषभ पंत को समझना होगा कि कहां चोट पहुंची है और कब पीछे हटना है: डीन जोन्स

सुमित ने पिछले महीने ही अपने पहले ग्रैंड स्लैम अमेरिकी ओपन के पहले राउंड में टेनिस के बादशाह स्विट्जरलैंड के रोजर फेडरर को पहला सेट हराया था और तब फेडरर ने कहा था कि ये भारतीय खिलाड़ी काफी आगे तक जा सकते हैं। सुमित का ये खिताब जीतना बताता है कि वो अब इसी राह पर चल पड़े हैं।