नई दिल्ली: इस समय पूरी दुनिया कोरोना के चपेट में हैं. विश्व में दो सौ से ज्यादा देश इस खतरनाक वायरस की गिरफ्त में है. सोमवार को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस जैसी महामारी को लेकर चिंता जताया और दुनिया भर के लिए चेतावनी भी जारी की. पूरे विश्व में अब तक इस वायरस से करीब तीन लाख से ज्यादा लोग इससे संक्रमित है वहीं अब तक 15 हजार ज्यादा लोग इसकी वजह से अपनी जान गवा चुके हैं. Also Read - कोरोनावायरस से जापान में 91 लोगों की मौत, प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने की आपातकाल की घोषणा

इसी सिलसिले में करिश्माई भारतीय फुटबॉलर सुनील छेत्री को फीफा ने सोमवार को कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के अभियान के संचालन के लिए चुना है जिसमें उनके साथ दुनिया के मौजूदा और पूर्व 28 दिग्गज खिलाड़ी शामिल हैं . Also Read - IRCTC की तीन निजी ट्रेनों में 30 अप्रैल तक के लिए टिकट की बुकिंग नहीं होगी

करिश्माई भारतीय फुटबॉलर सुनील छेत्री को फीफा ने सोमवार को कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के अभियान के संचालन के लिए चुना है जिसमें उनके साथ दुनिया के मौजूदा और पूर्व 28 दिग्गज खिलाड़ी शामिल हैं . Also Read - Coronavirus के खिलाफ जंग में भारत को बड़ी सफलता, तैयार की ये किट

फीफा और विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने विश्व-प्रसिद्ध फुटबालरों के नेतृत्व में कोरोना वायरस के खिलाफ एक नया जागरूकता अभियान शुरू किया है. इस अभियान के जरिए दुनिया भर के लोगों से बीमारी के प्रसार को रोकने के लिए पांच प्रमुख चरणों का पालन करने का आह्वान किया गया है.

इस अभियान का नाम ‘ पास द मैसेज टू किक आउट कोरोना वायरस (कोरोना वायरस को हराने के लिए संदेश फैलाये) है जिसमें डब्ल्यूएचओ के मार्गदर्शन में लोगों को लोगों के स्वास्थ्य के लिए पांच प्रमुख चरणों को बढ़ावा दिया जा रहा है. इसमें हाथ धोना, खांसने से जुड़ा शिष्टाचार, चेहरे को छूने से बचना, शारीरिक दूरी और अगर अस्वस्थ महसूस कर रहे हैं तो घर में रहना शामिल है.

इस वीडियो अभियान को 13 भाषाओं में तैयार किया गया है जिसमें 28 खिलाड़ियों में पूर्व भारतीय कप्तान छेत्री, अर्जेंटीना के सुपरस्टार लियोनेल मेसी के अलावा फिलिप लाहम, इकर कैसिलास और कार्ल्स पुयोल जैसे विश्व कप विजेता खिलाड़ी शामिल हैं.

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक डॉ. टी.ए. घेब्रेसस ने स्विट्जरलैंड के जिनेवा में डब्ल्यूएचओ मुख्यालय से अभियान की आभासी शुरुआत में कहा, ‘‘फीफा और उसके अध्यक्ष जियान्नी इन्फेंटिनो शुरू से ही इस महामारी के खिलाफ संदेश देने में सक्रिय रूप से शामिल रहे हैं.”

इन्फेंटिनो ने कहा, ‘‘हमें कोरोनोवायरस का मुकाबला करने के लिए टीम वर्क की आवश्यकता है. फीफा ने डब्ल्यूएचओ के साथ मिलकर यह काम किया है क्योंकि स्वास्थ्य पहले आता है. मैं दुनिया भर के फुटबाल समुदाय का आह्वान करता हूं कि इस अभियान को आगे बढ़ाने और संदेश को प्रसारित करने में हमारा साथ दें.’’