नई दिल्ली. वो कहते हैं ना कि हीरे की परख जौहरी को ही होती है. और, जब जौहरी खुद सुनील गावस्कर हों तो उनसे बेहतर विराट कोहली को भांपने वाला भला कौन हो सकता है. एजबेस्टन टेस्ट की दोनों पारियों में विराट कोहली की बल्लेबाजी का कायल हर कोई हुआ. सुनील गावस्कर भी उनके मुरीद हुए. गावस्कर ने एजबेस्टन टेस्ट में विराट के दमदार परफॉर्मेन्स को उनकी कड़ी मेहनत का नतीजा माना है. लीटिल मास्टर ने ये भी दावा किया कि अगर विराट 50 दिन न भी खेले तो भी शतक जड़ सकता है. Also Read - Virat Kohli को छोड़ देनी चाहिए टेस्ट टीम की कमान, Ajinkya Rahane हैं तैयार: बिशन सिंह बेदी

Also Read - ऋद्धिमान साहा को यकीन- समय के साथ बेहतर होगी रिषभ पंत की विकेटकीपिंग

गावस्कर का दावा, विराट में माद्दा Also Read - पैरेंट्स बनने के बाद पहली बार मीडिया के सामने आए विराट-अनुष्का, बेबी विरूष्का नहीं आई नजर

सुनील गावस्कर ने कहा,” विराट कोहली में अविश्वसनीय टैलेंट है. वो 50 दिन क्रिकेट से दूर रहेगा तो भी अगले दिन आकर शतक ठोक सकता है. ” हालांकि, विराट के परफॉर्मेन्स पर फिदा गावस्कर टीम इंडिया की रणनीति और उसके बाकी खिलाड़ियों के प्रदर्शन से खफा दिखे. गावस्कर ने एजबेस्टन टेस्ट से पहले टीम इंडिया के खिलाड़ियों को 5 दिन का आराम दिए जाने के मैनेजमेंट के फैसले की जमकर आलोचना की है.

‘बेस्ट’ वर्सेज ‘बेस्ट’ की जंग में नंबर वन, ‘जग घुमया विराट जैसा न कोय’

विराट वाली बात बाकियों में नहींं

गावस्कर ने कहा, ” विराट अगर चाहे तो आराम कर सकता है लेकिन टीम इंडिया को टेस्ट मैच से पहले 5 दिन का आराम नहीं दिया जा सकता. क्योंकि, दोनों के तैयारियों में जमीन-आसमान का अंतर है. भारतीय टीम मैनेजमेंट को इस बात को समझना होगा कि बाकी खिलाड़ियों को प्रैक्टिस की जरुरत है.”

एजबेस्टन टेस्ट से पहले 5 दिन आराम क्यों?

बता दें कि एजबेस्टन टेस्ट से पहले टीम इंडिया वनडे सीरीज खेलने के बाद 5 दिन के आराम पर थी. इस दौरान सभी खिलाड़ी यूरोप की सैर करते दिखे. टीम इंडिया ने दो दिन प्रैक्टिस की लेकिन गावस्कर के मुताबिक उसमें गंभीरता की कमी दिखी. नतीजा ये हुआ कि जब मुकाबला शुरू हुआ तो वो ऐसा लगा कि जैसे भारत बनाम इंग्लैंड के बीच न चलकर विराट कोहली बनाम इंग्लैंड के बीच खेला जा रहा हो.

हार से सीखो, लॉर्ड्स में जीतो

बहरहाल, अगला टेस्ट 9 अगस्त से लॉर्ड्स में खेला जाना है और टीम इंडिया ने अगर एजबेस्टन की हार से भी सबक न लिया तो फिर उसके लिए सीरीज में वापसी के रास्ते बंद हो सकते हैं. भारतीय टीम को ये समझना होगा कि क्रिकेट टीम गेम है, वन मैन शो नहीं, जिसे विराट अकेले जीता सकते हैं.