Also Read - अगले कुछ दिनों में साफ होगी Virat Kohli की वनडे में कप्तानी की किस्मत, साउथ अफ्रीका के लिए चुनी जानी है टीम

भारतीय क्रिकेट की करीब से फॉलो करने वाले कुछ ही लोगों को याद होगा कि पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर (Sunil Gavaskar) भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के अध्यक्ष रह चुके हैं। मौजूदा बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) से पहले गावस्कर बोर्ड के प्रमुख बनने वाले पूर्व कप्तान थे। Also Read - Harbhajan Singh ने चुनी अपनी ड्रीम टेस्ट टीम- स्टीव वॉ को कप्तानी, Sachin Tendulkar और Virender Sehwag भी शामिल

Also Read - SA vs IND: कोरोना के तीसरे वैरिएंट के बीच भारत का साउथ अफ्रीका दौरा, कप्तान ने जताया 'बायो-बबल' कदमों पर भरोसा

साल 2014 के आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले के बाद सुप्रीम कोर्ट ने गावस्कर को ये प्रभार उन्हें सौंपा था। हालांकि उनका ये कार्यकाल मात्र दो महीने का था। इस दिग्गज बल्लेबाज को उम्मीद है कि गांगुली बतौर बीसीसीआई अध्यक्ष उनसे बेहतर साबित होंगे।

मिएजर्स क्लब में मानद आजीवन सदस्यता हासिल करने के दौरान गावस्कर ने कहा, ‘‘उनसे (गांगुली से) पहले एक और पूर्व भारतीय कप्तान थ जिसके नाम के शुरुआती अक्षर भी यही थे- एसजी – ढाई महीने के लिए और मुझे लगता है कि उस समय को काफी सफल माना जाता है।’’

IND vs BAN, 1st Day-Night Test: बांग्लादेश ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी चुनी

उन्होंने कहा, ‘‘अब उसे 10 महीने का समय मिला है, अगर बदलाव नहीं होता है तो। मैं उम्मीद करता हूं कि वह पांच गुना अधिक सफल होगा क्योंकि दो (गावस्कर का कार्यकाल) को पांच से गुणा करने पर 10 आता है। उम्मीद करता हूं कि एसजी (गांगुली) को एसजी (गावस्कर) की तुलना में पांच गुना सफलता हासिल होगी।’’

भारत के पहले दिन-रात्रि टेस्ट में कमेंटरी के लिए यहां आए गावस्कर ने कहा, ‘‘ये रोमांचक समय है। ये विश्व क्रिकेट के लिए भी रोमांचक समय है, गुलाबी गेंद से काफी टेस्ट नहीं हुए हैं। तैयारी के लिए मैं भी गुलाबी रंग के कपड़े पहनकर आया हूं… लेकिन ये सिर्फ कमेंटरी के लिए है।’’