नई दिल्ली: सनराइजर्स हैदराबाद ने गुरुवार को फिरोज शाह कोटला मैदान पर खेले गए इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 42वें मैच में मेजबान दिल्ली डेयरडेविल्स को नौ विकेट से हरा दिया. दिल्ली ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए रिषभ पंत (नाबाद 128) के पहले आईपीएल शतक के दम पर 20 ओवर में पांच विकेट खोकर 187 रन बनाए थे. हैदराबाद ने इस लक्ष्य को 18.5 ओवर में सिर्फ एक विकेट खोकर हासिल कर लिया. इस जीत के साथ हैदराबाद ने जहां प्‍वॉइंट टेबल में शीर्ष पर अपनी जगह मजबूत कर ली, वहीं दिल्‍ली के लिए आईपीएल 11 में प्‍लेऑफ में पहुंचने की उम्‍मीदों को भी खत्‍म कर दिया. दिल्‍ली 11 मैच में तीन ही जीत पाई है और अब बाकी तीन मैच जीतने के बाद भी दिल्‍ली के 12 प्‍वॉइंट होंगे जो प्‍लेऑफ में पहुंचने के लिए पर्याप्‍त नहीं है. Also Read - IPL 2020: पंजाब के खिलाफ हार के बाद अय्यर ने माना- 10 रन कम पड़ गए

धवन-विलियमसन की अजेय साझेदारी
हैदराबाद के लिए ओपनर शिखर धवन ने 92 रन बनाए. अपनी पारी में धवन ने 50 गेंदों का सामना किया और नौ चौकों के अलावा चार छक्के लगाए. कप्तान केन विलियमसन ने उनका अच्छा साथ दिया और 53 गेंदों में आठ चौके तथा दो छक्कों की मदद से 83 रनों की पारी खेली. दोनों ने दूसरे विकेट लिए 176 रनों की साझेदारी कर टीम को जीत दिलाई. Also Read - KXIP vs DC: पूरन-गेल ने खेली तूफानी पारी, इस तरह अंतिम ओवरों में पंजाब ने जीता मुकाबला

पंत का शानदार शतक
इससे पहले रिषभ पंत की आक्रामक शतकीय पारी के बल पर दिल्‍ली ने 20 ओवर में पांच विकेट खोकर 187 रन का स्‍कोर खड़ा किया था. पंत ने केवल 63 गेंदों पर 128 रनों की शानदार नाबाद पारी खेली. पंत का आईपीएल में यह पहला शतक है जबकि लीग के इस सीजन में यह तीसरा शतक है. इससे पहले क्रिस गेल और शेन वाटसन आईपीएल-11 में शतक लगा चुके हैं. पंत की पारी हालांकि बेदाग नहीं रही. बल्‍लेबाजी के दौरान उनकी गलतियों से दिल्‍ली के दो बल्‍लेबाज रन आउट हुए. लेकिन इस दबाव से उबरते हुए उन्‍होंने हैदराबाद के गेंदबाजों पर जबरदस्‍त आक्रमण जारी रखा. अपनी पारी के दौरान उन्‍होंने 15 चौके और सात छक्‍के लगाए. Also Read - KXIP vs DC: शिखर धवन ने IPL में बैक टू बैक शतक जड़ रचा इतिहास, बने ऐसा करने वाले पहले बल्‍लेबाज

दिल्‍ली की खराब शुरुआत
टॉस जीतने के बाद पहले बल्‍लेबाजी करने उतरी दिल्‍ली की शुरुआत एक बार फिर अच्‍छी नहीं हुई. शकीब अल हसन ने पारी के दूसरे ओवर में उसे दो झटके दिए. ओवर की पांचवीं गेंद पर पहले पृथ्‍वी शॉ आउट हुए. अच्‍छी फॉर्म में चल रहे पृथ्‍वी केवल नौ रन बना सके. वे आउट हुए तब टीम का स्‍कोर केवल 21 रन था. अगली गेंद पर शकीब ने जेसन रॉय को विकेटकीपर के हाथों कैच करा पवेलियन वापस भेजा. कप्‍तान श्रेयस अय्यर संभलकर खेल रहे थे, लेकिन दूसरे छोर पर रिषभ पंत की एक गलती ने उन्‍हें रन आउट करा दिया. इसके बाद आए हर्षल पटेल ने 17 गेंद पर दो छक्‍कों की मदद से 24 रन बनाए लेकिन वे भी पंत का ज्‍यादा साथ नहीं दे पाए. हालांकि, उनके रन आउट होने की वजह भी पंत ही बने.

कोई और बल्‍लेबाज टिका नहीं
पटेल के आउट होने के बाद पंत ने भांप लिया कि टीम को अच्‍छे स्‍कोर तक पहुंचाने की जिम्‍मेदारी अब उनकी है. उन्‍होंने जमकर शॉट्स लगाने शुरू किए और फिर तो फिरोजशाह कोटला के मैदान पर चौको-छक्‍कों की बौछार होने लगी. पंत ने किसी को नहीं बख्‍शा. भुवनेश्‍वर कुमार हों या राशिद खान या फिर सिद्धार्थ कौल, सबकी गेंदों पर उन्‍होंने विशाल छक्‍के लगाए. कौल की गेंद पर चौका लगाकर उन्‍होंने 56 गेंदों में अपनी सेंचुरी पूरी की. इसके बाद अगले सात गेंदों पर उन्‍होंने 28 रन बटोरे. इसमें आखिरी ओवर में भुवनेश्‍वर कुमार की गेंद पर 26 रन भी शामिल हैं. इस ओवर की पहली गेंद पर मैक्‍सवेल आउट हुए. अगली दो गेंदों पर पंत ने चौका जड़ा और अंतिम तीन गेंदों पर तीन छक्‍के लगाकर पारी का अंत किया. उन्‍होंने पांचवें विकेट के लिए मैक्‍सवेल के साथ 31 गेंद पर 63 रनों की साझेदारी की. इसमें मैक्‍सवेल का योगदान नौ रन था.

हैदराबाद के लिए केवल शाकिब अल हसन ही इस मैच में अच्‍छी गेंदबाजी कर पाए. शकीब ने चार ओवर में 27 रन देकर दो विकेट लिए. संदीप शर्मा ने चार ओवर में 24 रन ही दिए, लेकिन उन्‍हें कोई विकेट नहीं मिला. एक विकेट भुवनेश्‍वर कुमार को मिला.