नई दिल्ली: आईपीएल 2018 में लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रही टीम सनराइजर्स हैदराबाद फाइनल में आकर हार गयी. उसे चेन्नई सुपर किंग्स ने 8 विकेट से मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में हराया. हैदराबाद ने लीग मैचों में दमदार प्रदर्शन करते हुए 9 मैचों में जीत हासिल की. लेकिन पहले क्वालीफायर में उसे चेन्नई ने हरा दिया. इसके बाद फाइनल में भी उसे चेन्नई के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा. हैदराबाद की हार के कई कारण रहे. जहां एक तरफ महेन्द्र सिंह धोनी की कप्तानी वाली टीम चेन्नई में शेन वॉटसन और सुरेश रैना जैसे दिग्गज खिलाड़ी थी, वहीं हैदराबाद में शिखर धवन और यूसुफ जैसे बेहतरीन खिलाड़ी थे. इसके बावजूद हैदराबाद ने मैच गंवा दिया.

हैदराबाद की हार का सबसे बड़ा कारण शेन वॉटसन रहे. हैदराबाद के गेंदबाजी ने शुरुआती ओवर में अच्छी गेंदबाजी की. टीम के लिए भुवनेश्वर कुमार और संदीप शर्मा ने शुरुआत 5 ओवर किए, जिनमें चेन्नई एक विकेट खोकर सिर्फ 20 रन बना पायी. लेकिन इसके बाद अगले ही ओवर में संदीप ने 15 रन दे दिए. यहां से चेन्नई के बल्लेबाज हावी होना शुरु हो गए थे.

IPL2018: फाइनल के बाद जीवा ने धोनी को सौंपा काम, ट्रॉफी छोड़ा बेटी के साथ बिज़ी दिखे माही

7वां ओवर सिद्धार्थ कौल ने किया, जिसमें चेन्नई ने 16 रन बनाए. इसके बाद विलियमसन ने गेंदबाजी में बदलाव करते हुए राशिद खान को ओवर दिया. 8वें ओवर में राशिद ने महज 5 रन दिए. लेकिन फिर 9वें में सिद्धार्थ ने 16 रन देकर वॉटसन और रैना के हौंसले को बढ़ा दिया. इसी तरह संदीप ने 13वें ओवर में 27 रन दे डाले और यहां से पूरा मैच बदल गया. हैदराबाद के गेंदबाज वॉटसन को आउट नहीं कर पाए, जो कि उनकी हार का बड़ा कारण बना.

IPL2018: फाइनल जीतने के बाद CSK के खिलाड़ियों को मिले करोड़ों रुपये, जानें किसे कितनी मिली ईनामी राशि

फाइनल मुकाबले में हैदराबाद ने टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवर में 6 विकेट खोकर 178 रन बनाए. इस दौरान टीम के लिए शिखर धवन और श्रीवत्स गोस्वामी ओपनिंग करने आए. इस दौरान श्रीवत्स महज 5 रन बनाकर आउट हो गए. इसके बाद केन विलियमसन बल्लेबाजी करने आए. इन दोनों बल्लेबाजों ने टीम को काफी धीमी शुरुआत दी. हैदराबाद ने शुरुआती 5 ओवर में एक विकेट खोकर 30 रन बनाए.

IPL2018: Final के बाद दिखी धोनी की महानता, जीत के बाद किया ये बड़ा काम

वहीं 10 ओवर तक टीम ने दूसरा विकेट गंवा दिया और 73 रन ही बना पायी. इस दौरान धवन ने 26 रन बनाने के लिए 25 गेंदें खेलीं. टीम की धीमी शुरुआत न होती तो स्कोर 200 के करीब पहुंच सकता था. लेकिन ऐसा नहीं हो पाया. हैैदराबाद के गेंदबाज रन नहीं रोक पाए, जिससे चेन्नई के बल्लेबाज लगातार हावी होते गए. संदीप शर्मा का 27 रन का ओवर और सिद्धार्थ का स्पेल टीम के लिए काफी महंगा साबित हुआ.