नई दिल्ली: दिल्ली डेयरडेविल्स और चेन्नई सुपरकिंग्स के बीच आईपीएल 2018 का 52वां मैच खेला जायेगा. फिरोजशाह कोटला मैदान में खेले जाने वाले इस मुकाबले में दिल्ली की साख दांव पर होगी. वहीं चेन्नई इस मैच में जीत हासिल कर प्लेऑफ में अपना दावा मजबूत करना चाहेगी. हालांकि वह प्लेऑफ में पहुंच चुकी है. लगातार खराब प्रदर्शन से जूझ रही दिल्ली के लिए यह मुकाबला चुनौतीपूर्ण होगा. अगर रिकॉर्ड पर नजर डालें तो चेन्नई का पलड़ा भारी नजर आता है. Also Read - दिल्ली में 22000 के पार पहुंचे कोरोना वायरस के मामले, अब तक 556 की मौत

Also Read - फैंस ही नहीं साथी खिलाड़ियों को भी आ रही है धोनी की याद; रैना ने पोस्ट की फोटो तो चहल ने साक्षी से मदद मांगी

दिल्ली और चेन्नई के बीच हेड टू हेड खेले गए 17 मैचों में से 12 मैच चेन्नई ने जीते हैं. वहीं 5 मैचों में दिल्ली ने जीत हासिल की है. अगर फिरोजशाह कोटला की बात करें तो इस मैदान में खेले गए 5 मैचों में से सिर्फ एक मैच दिल्ली ने जीता है. जब कि 4 मैचों में चेन्नई ने जीत हासिल की है. इस लिहाज से चेन्नई का दिल्ली के खिलाफ अब तक शानदार रिकॉर्ड रहा है. अहम बात यह भी है कि दिल्ली इस सीजन में भी खराब प्रदर्शन से जूझ रही है. Also Read - Covid-19: सीएम केजरीवाल ने लॉन्च किया मोबाइल ऐप, अब एक क्लिक में पाएं अस्पतालों की जानकारी

टीम इंडिया के पूर्व खिलाड़ी को जिम्बाब्वे ने बनाया कोच, हासिल कर चुके हैं यह बड़ी उपलब्धि

गौरतलब है कि चेन्नई के दिग्गज खिलाड़ी सुरेश रैना दिल्ली के खिलाफ ज्यादा अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए हैं. उनके अलावा हरभजन सिंह का भी यही हाल रहा है. रैना ने दिल्ली के खिलाफ 21 पारियों में 492 रन बनाए हैं. इस दौरान सिर्फ 2 अर्धशतक जड़े हैं. यह उनका आईपीएल में किसी टीम के खिलाफ सबसे कम स्कोर है. इसके अलावा अगर महेन्द्र सिंह धोनी की बात करें तो उन्होंने अब तक अच्छा प्रदर्शन किया है. धोनी अगर इस मैच में 10 रन या इससे ज्यादा बना लेते हैं तो वो अपने 6000 रन टी-20 रन पूरे कर लेंगे.

टीम इंडिया के पूर्व खिलाड़ी को जिम्बाब्वे ने बनाया कोच, हासिल कर चुके हैं यह बड़ी उपलब्धि

आईपीएल 2018 में चेन्नई ने शानदार प्रदर्शन किया. उसने अब तक 12 मैच खेले. इस दौरान टीम ने 8 मैचों में जीत हासिल की, जब कि 4 मैचों में हार का सामना किया है. चेन्नई पॉइंट टेबल में 16 पॉइंट्स के साथ दूसरे स्थान पर है. आईपीएल प्लेऑफ में हैदराबाद और चेन्नई पहुंच चुकी हैं. इसमें दो और टीमों को शामिल होना है. दिल्ली इस दौड़ से बाहर हो चुकी है. इसलिए अगर वह यह मैच हार भी जाती है तो कोई विशेष फर्क नहीं पड़ेगा.