नई दिल्ली. कोलंबो के प्रेमदासा मैदान पर श्रीलंका के खिलाफ खेले T20 मुकाबले में टीम इंडिया की जीत की जितनी चर्चा है, उतनी ही चर्चा सुरेश रैना के उस कैच की भी हो रही है जिसे देखने के बाद पूरे स्टेडियम से एक सुर में आवाज आई थी वाह. दरअसल, सुरेश रैना का वो कैच था ही कुछ ऐसा. जब तक कोई कुछ समझ पाता तब तक बल्लेबाज का खेल खत्म और पूरा स्टेडियम दंग.

टीम इंडिया के खिलाफ श्रीलंकाई ओपनरों ने दमदार शुरुआत की. गुणाथिलका और कुशल मेंडिस की जोड़ी ने भारतीय गेंदबाजों पर जमकर हमला बोला और करीब 13 की रन रेट से रन बनाने लगे. रनों की इस आतिशबाजी के दौरान गुणाथिलका ने शार्दुल ठाकुर की एक गेंद पर करारा शॉट जड़ा. जितनी तेजी से गेंद गुणाथिलका के बल्ले को चूमकर सीमा रेखा की ओर बढ़ी थी उससे हर किसी को उसके ठीकाने का अंदाजा था. लेकिन, बीच में खड़े सुरेश रैना गेंद की राह में रोड़ा बन गए. उन्होंने फुर्तीली छलांग लगाकर गेंद को मैदान पर टच करने से पहले ही लपक लिया. रैना के इस जबरदस्त कमाल ने सबको चौंका दिया. हर कोई हैरान था ये सोचकर कि ऐसा हुआ कैसे.

कैच कोलंबो में, नाम एशिया में

रैना ने जो कमाल कोलंबो में किया उसकी चर्चा तो जोर पकड़ी ही. साथ ही उनके नाम की धूम पूरे एशियाई क्रिकेट में मचने लगी. दरअसल, जिस कैच को पकड़कर रैना ने गुणाथिलका को पवेलियन का रास्ता दिखाया वो उनके इंटरनेशनल T20 करियर का 38वां कैच था. T20 इंटरनेशनल करियर में इतने कैच पकड़ने वाले सुरेश रैना पहले भारतीय क्रिकेटर हैं. 38 कैच के साथ उन्होंने पाकिस्तान के उमर अकमल के एशियाई रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है. यानी, निदाहस ट्रॉफी में अब एक और कैच लपककर रैना उमर अकमल को पीछे छोड़ते हुए इंटरनेशनल T20 में सर्वाधिक कैच लेने वाले एशिया के टॉप फील्डर बन सकते हैं.

वर्ल्ड क्रिकेट में इनसे पीछे रैना

रैना ने 38 कैच 71 मुकाबलों में पकड़े हैं . वर्ल्ड क्रिकेट सबसे ज्यादा T20 इंटरनेशनल कैच लपकने के मामले में सुरेश रैना छठे नंबर पर हैं. इस लिस्ट में साउथ अफ्रीका के एबी डिविलियर्स 44 कैच के साथ सबसे ऊपर हैं. डिविलियर्स के बाद रॉस टेलर, डेविड वॉर्नर, डेविड मिलर और मार्टिन गुप्टिल का नाम है.