नई दिल्ली: दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेली गई टी-20 सीरीज से भारतीय क्रिकेट टीम में वापसी करने वाले सुरेश रैना का मानना है कि टी-20 मैच में जीत के लिए पहले छह ओवर मायने रखते हैं. रैना ने कहा कि इन छह ओवरों में ही टीम को अपनी जीत सुनिश्चित करनी होती है. Also Read - पीवी सिंधु: ओलंपिक में इतिहास रचने वाली भारतीय खिलाड़ी के शानदार करियर पर एक नजर

Also Read - पूर्व विकेटकीपर का सुनील गावस्‍कर पर तंज, नेट्स में थे बेहद खराब खिलाड़ी

न्यूलैंड्स क्रिकेट मैदान पर खेले गए तीसरे टी-20 मैच में ‘मैन ऑफ द मैच’ रहे रैना ने कहा कि वह आगे भी दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टी-20 मैचों में अपना मजबूत खेल जारी रखना चाहते हैं. इसमें आईपीएल भी शामिल है. रैना ने कहा कि वह इसके जरिए भारत की वनडे टीम में वापसी के लिए राह तय कर सकें. Also Read - नेपाल की कम्युनिस्ट पार्टी की मीटिंग सोमवार तक के लिए टली, PM ओली पर होना था फैसला

मिताली राज ने जताया भरोसा, महिला विश्वकप में भारतीय टीम का प्रदर्शन चौंकाने वाला होगा

मैच के बाद संवाददाताओं को दिए बयान में रैना ने कहा, “मुझे लगता है कि टी-20 मैच में शुरुआत के छह ओवर काफी मायने रखते हैं. अगर आपके हाथों में विकेट हैं, तो आप प्रतिद्वंद्वी टीम के गेंदबाजों पर हावी हो सकते हैं.”

रैना ने कहा, “वापसी का यह समय मेरे लिए काफी महत्वपूर्ण है. यहां से हम श्रीलंका में त्रिकोणीय सीरीज और इसके बाद आईपीएल खेलेंगे. हमें आगे कई मैच खेलने हैं. मैं इससे पहले भी विश्व कप का हिस्सा रहा हूं और 2011 में मैंने टीम के साथ विश्व कप भी जीता है। मेरे लिए वो एहसास अविश्वसनीय था.”

विजय हजारे ट्रॉफी: सौराष्ट्र ने आंध्रा को हराया, फाइनल में कर्नाटक से होगा मुकाबला

वनडे की बात करते हुए रैना ने कहा,, “मैंने वनडे में पांचवें स्थान पर रहते हुए अच्छी बल्लेबाजी की है. यह कुछ और खेलों का मामला है और मुझे लगता है कि मैं इससे वनडे टीम में वापसी की अपनी क्षमता दर्शा सकता हूं.”

रैना ने कहा, “पिछले दो साल में मैंने काफी कड़ी मेहनत की है। मैं हर सत्र जिम में या मैदान पर अभ्यास करते हुए बिताता था। मैं बस भारतीय टीम के लिए मैदान पर उतरने का इंतजार करता था। अब जब टीम सीरीज जीती है, तो सबकुछ अच्छा लग रहा है।”