दुनिया की सबसे मशहूर साइकिल रैली टूर डि फ्रांस (Tour de France) के शुरू होने में अब तीन महीने से भी कम का समय बचा है लेकिन इसके आयोजन को लेकर आशंकाएं जस की तस बनी हुई है जबकि आयोजकों ने चुप्पी साध रखी है। Also Read - Avoid These Things While Cycling: साइकिल चलाने के हैं शौकीन तो इन गलतियों से रहें दूर, जानें किन बातों का रखना है आपको ध्यान

फ्रांसीसी खेल कैलेंडर की ये महत्वपूर्ण प्रतियोगिता 27 जून को नीस में शुरू होकर पेरिस में चैम्प्स एलीसीज में 19 जुलाई को समाप्त होनी है। Also Read - दिल्ली के सड़कों पर साइकिल चलाते दिखे सोनम के पति, फिटनेस के लिए रहते हैं एक्टिव

लेकिन फ्रांस में कोरोना वायरस के कारण तीसरे सप्ताह भी ‘लॉकडाउन’ है। देश में इस महामारी के कारण 3,000 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है जबकि टूर डि फ्रांस के आयोजकों ने अपनी भावी योजनाओं पर टिप्पणी करने से इन्कार कर दिया। उन्होंने सिर्फ इतना कहा है कि आम जनता के सर्वश्रेष्ठ हित में फैसला करेंगे। Also Read - Major General Somnath Jha reached Amar Jawan Jyoti 42 thousand minutes cycling to tribute the martyrs | 12 हजार किमी. की साइकिल यात्रा कर अमर जवान ज्योति पहुंचे मेजर जनरल सोमनाथ झा

टूर डि फ्रांस के प्रमुख क्रिस्टियन प्रुडहोम ने मार्च के शुरू में कहा था, ‘‘ये (महामारी) खत्म होने के बाद लोगों में खेलों के लिए बहुत अधिक ललक होगी।’’

लेकिन वर्तमान परिस्थितियों में टूर डि फ्रांस के आयोजन की संभावना कम नजर आ रही है। ऐसे में भारी वित्तीय नुकसान की संभावना है। फ्रांसीसी टीम एजी2आर के प्रमुख विन्सेंट लावेनु ने कहा, ‘‘सीजन की 60 प्रतिशत कमाई केवल टूर डि फ्रांस से होती है।’’

साल 2018 के चैंपियन गेरेंट थामस ने कहा कि अगर टूर रद्द किया जाता है तो इससे काफी लोगों को अपनी नौकरी गंवानी पड़ सकती है। उन्होंने ‘डेली टेलीग्राफ’ से कहा, ‘‘अगर बीस साल बाद आप इतिहास की किताबों में पढ़ेंगे कि 2020 में टूर नहीं हुआ था तो तब यह मायने नहीं रखेगा लेकिन अभी इससे करीब 20 टीमें जुड़ी हैं और कंपनियों ने इन टीमों पर पैसा लगाया है और अगर टूर नहीं होता है तो काफी लोग बेरोजगार हो सकते हैं। ’’