नई दिल्ली: भारत के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज सैयद किरमानी ने टेस्ट सीरीज गंवाने के बाद वापसी करने वाली भारतीय टीम की तारीफ करते हुए कहा कि विराट कोहली की अगुआई वाली टीम ने अपनी असली क्षमता और प्रतिभा वनडे में दिखाई है. किरमानी ने धोनी की तारीफ करते हुए कहा कि उनकी आलोचना करना ठीक नहीं. Also Read - घर लौटकर T Natarajan ने बताया वो कब हो गए थे नर्वस, टेस्‍ट सीरीज जीत में निभाई अहम भूमिका

Also Read - शुबमन गिल ने किया खुलासा- करियर की शुरुआत में हुई इस घटना के बाद खत्म हो गया बाउंसर का डर

किरमानी ने कहा, ‘‘दक्षिण अफ्रीका में हालात से सामंजस्य बैठाने से पहले ही उन्होंने (भारतीय टीम ने) टेस्ट सीरीज गंवा दी. हालांकि उन्होंने अच्छी वापसी की और वनडे इंटरनेशनल सीरीज में अपनी क्षमता दिखाई और इसे जीता.’’ उन्होंने कहा, ‘‘टीम ने शानदार वापसी करते हुए अपनी असली क्षमता और प्रतिभा दिखाई तथा वनडे सीरीज जीती.’’ Also Read - भारतीय क्रिकेटरों के मुकाबले में अभी 'प्राइमरी क्लास' में हैं युवा ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी: ग्रेग चैपल

हर्शल गिब्स से भिड़े अश्विन, मैच फिक्सिंग का लगाया गंभीर आरोप

टेस्ट सीरीज 1-2 से गंवाने के बाद जोरदार वापसी करते हुए भारतीय टीम ने छह मैचों की वनडे सीरीज 5-1 से जीती. किरमानी ने कहा कि कीपिंग तकनीक सहित कई पहलुओं को लेकर महेंद्र सिंह धोनी की आलोचना करना ठीक नहीं है क्योंकि उन्होंने नतीजे दिए हैं जो अधिक महत्वपूर्ण हैं.

उन्होंने कहा, ‘‘यह सब नतीजों का खेल है. जो विकेटकीपिंग और बल्लेबाजी के लिए धोनी की आलोचना कर रहे हैं उन्हें पता नहीं है कि उसने हर जगह नतीजे दिए हैं.’’ किरमानी ने कहा, ‘‘आजकल हर जगह नतीजे देखे जाते हैं, तकनीक नहीं.’’

आईपीएल 2018 इस चैनल पर होगा प्रसारित, जानें कब और कहां देख पायेंगे मैच

किरमानी ने धोनी के प्रदर्शन के अलावा उनकी कप्तानी की भी तारीफ की. उन्होंने कहा, ‘‘वह खेल के तीनों प्रारूपों में टीम को शीर्ष पर ले गया और मोर्चे से अगुआई की. वह देश का शानदार दूत रहा और उसमें महान नेतृत्वकर्ता की सभी क्षमताएं थी. तो फिर उसकी तकनीक के बारे में बात क्यों करें, जब उसने नतीजे दिए हैं.’’

पूर्व भारतीय विकेटकीपर किरमानी ने कहा कि विशेषज्ञ विकेटकीपर आधुनिक क्रिकेट में प्रासंगिक नहीं है विशेषकर सीमित ओवरों के प्रारूप में.