नई दिल्ली. किसी बल्लेबाज की बल्लेबाजी ने अगर नॉर्दर्न वॉरियर्स के सबसे पहले फाइनल में पहुंचने का रास्ता रोका तो वो रहे पाकिस्तान के पूर्व ऑलराउंडर और टूर्नामेंट में पख्तून्स टीम की कमान संभाल रहे शाहिद अफरीदी. दरअसल, आज होने वाली फाइनल भिडंत से पहले सैमी की कप्तानी में ZEE 5 की टाइटल स्पॉन्सर वाली टीम नॉर्दर्न वॉरियर्स क्वालिफायर में भी अफरीदी की कप्तानी वाली पख्तून्स टीम से टकरा चुकी है. क्वालिफायर जीतने का मतलब होता सीधे फाइनल का टिकट. लेकिन, बूम-बूम अफरीदी की विस्फोटक बल्लेबाजी की बदौलत पख्तून्स ने ऐसा होने नहीं दिया और नॉर्दर्न वॉरियर्स को उस मुकाबले में 13 रन से हार का सामना करना पड़ा.

T10 लीग के फाइनल में मचेगा किस टीम का ‘हल्ला’, तय करेगा 2 विकेटकीपरों का ‘बल्ला’

अफरीदी की ‘बेलगाम’ बल्लेबाजी

T10 लीग के क्वालिफायर मुकाबले में शाहिद अफरीदी ने बेलगाम बल्लेबाजी की और सिर्फ 17 गेंदों पर नाबाद 59 रन ठोक दिए. अफरीदी की ये पारी कितनी तेज थी इसका अंदाजा उनके 347.05 के स्ट्राइक रेट से लगाया जा सकता है. अफरीदी की पारी की धमाके की गूंज कितनी दमदार थी इसका अंदाजा पारी में जमाए उनके 7 छक्के और केवल 3 चौकों से लगाया जा सकता है.

क्वालिफायर में नाबाद रहे थे अफरीदी

बड़ी बात ये है कि क्वालिफायर में अफरीदी का बल्ला नाबाद रहा. यानी नॉर्दर्न वॉरियर्स का कोई भी गेंदबाज उसके बेलगाम तेवर पर ब्रेक नहीं लगा सका और अब T10 लीग के फाइनल में भी नॉर्दर्न वॉरियर्स की खिताबी जीत का रास्ता रोकने के लिए उनके सामने खड़ा है.

चैम्पियन बनना है तो करना होगा ये काम

साफ है नॉर्दर्न वॉरियर्स को चैम्पियन बनने का स्वाद चखना है तो उसे पख्तून्स के कप्तान साहब यानी कि शाहिद अफरीदी की बेलगाम बल्लेबाजी पर ब्रेक लगाना ही होगा. उनके सिक्सर वाले मिजाज में सेंधमारी करनी ही पड़ेगी. क्योंकि, ऐसा ही करने से T10 लीग के फाइनल में उनकी जीत का पताका फहरता दिख सकता है.

फाइनल में अफरीदी vs विल्जियॉन

अफरीदी के अटैक को रोकने के लिए जरूरी है कि नॉर्दर्न वॉरियर्स की अफ्रीकी चाल में वो फंस जाएं और उनका काम तमाम हो जाए. यहां नॉर्दर्न वॉरियर्स की अफ्रीकी चाल से मतलब उसके बेड़े में शामिल अफ्रीकी मिडियम पेसर हार्ड्स विल्जियॉन से है. विल्जियॉन T10 लीग के इस सीजन में अब तक 16 विकेट ले चुके हैं और वो टूर्नामेंट के लीडिंग विकेटटेकर हैं. ऐसे में अपनी चाल में अफरीदी को फंसाने का काम वो फाइनल की जंग में बखूबी कर सकते हैं.