नई दिल्ली. मुंबई स्कूल ऑफ क्रिकेट ने भारतीय क्रिकेट वैसे तो कई बड़े बल्लेबाज दिए लेकिन सुनील गावस्कर के बाद जिसने इस स्कूल का झंडा बुलंद किया उनमें सचिन तेंदुलकर सबसे आगे हैं. यही वजह है कि अब जब मुंबई की T20 लीग नई आशाओं के साथ परवान चढ़ने को तैयार है तो इस लीग के ब्रांड एंबेस्डर के तौर पर सचिन ये कहते दिख रहे हैं कि अब हुनर छिपेगा नहीं दिखेगा.

सचिन के मुताबिक, “टी20 मुंबई लीग की काफी जरूरत थी. ये राज्य के युवाओं के लिए अपनी प्रतिभा को दिखाने का अच्छा मंच साबित होगा. अगर युवाओं को मुंबई क्रिकेट के कुछ बड़े नामों के साथ खेलने का मौका मिलेगा तो ये अच्छा होगा, उन्हें सीखने को मिलेगा. मुंबई क्रिकेट ने हमेशा भारतीय क्रिकेट की अगुआई की है और आंकड़े इसका सबसे बड़ा सबूत हैं. ”

सचिन ने ट्विट कर T20 मुंबई लीग का हिस्सा बनने की खुशी भी जताई है.

T20 मुंबई लीग का आयोजन 11 से 21 मार्च तक वानखेड़े स्टेडियम में किया जाएगा. सचिन ने कहा, ” मुंबई क्रिकेट में कई ऐसे क्रिकेटर भी थे जो राष्ट्रीय टीम में जगह नहीं बना सके क्योंकि कोई स्थान उपलब्ध नहीं था. लेकिन वे काफी अच्छे थे और उन्हें भारत के लिए खेलना चाहिए था. इसी तरह कई क्लब क्रिकेटरों को रणजी खेलना चाहिए था लेकिन वे ऐसा नहीं कर पाए.”

मुंबई क्रिकेट का गुणगान करते हुए मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर बचपन की एक घटना याद करते हैं और कहते हैं, ” मुंबई ने 41 बार रणजी ट्राफी जीती, इसका मतलब है आपका इतिहास शानदार है. मुझे अब भी याद है बचपन में कामथ मेमोरियल क्लब में पदमाकर शिवलकर मुझे गेंदबाजी करते थे. वो उस समय मेरी उम्र से लगभग तीन गुना बड़े थे लेकिन वो मुझे गेंदबाजी करते थे. बता दें कि इस तरह की चीजें सिर्फ मुंबई में ही होती हैं. ”

मुंबई T20 लीग के ब्रांड एंबेस्डर के तौर पर सचिन ने इसकी कामयाबी की उम्मीद जताई हैं. तेंदुलकर ने आईपीएल की मिसाल पेश करते हुए कहा कि जब इंडियन प्रीमियर लीग वर्ल्ड क्रिकेट में कदम रख रहा था तब भी किसी ने नहीं सोचा था कि वो आज इस मुकाम पर होगा. उम्मीद है ऐसा ही धमाल T20 मुंबई लीग भी करेगी.

बता दें कि महान सचिन तेंदुलकर के अलावा मुंबई ने अजित वाडेकर, सुनील गावस्कर, चंद्रकांत पंडित, दिलीप वेंगसरकर, संजय मांजरेकर, प्रवीण आमरे, विनोद कांबली से लेकर रोहित शर्मा, अजिंक्य रहाणे, श्रेयस अय्यर और शार्दुल ठाकुर जैसे इंटरनेशनल क्रिकेट के कई बड़े सितारे दिए हैं.