पाकिस्तान के कप्तान बाबर आजम (Babar Azam) ने कहा है कि संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में टी20 वर्ल्ड कप (T20 World Cup 2021) का आयोजन घरेलू आयोजन की तरह है. क्योंकि पाकिस्तान ने एक दशक से भी ज्यादा यूएई के मैदानों को अपने घरेलू मैदान के तौर पर इस्तेमाल किया है. पाकिस्तान और भारत की टीमें 24 अक्टूबर को एक-दूसरे के खिलाफ टी20 वर्ल्ड कप का आगाज करेंगी. आईसीसी ने मंगलवार को इस टूर्नामेंट के शेड्यूल की घोषणा की है.Also Read - Anil Kumble नहीं बनेंगे हेड कोच, VVS Laxman को मिल सकता है ऑफर!

इस विश्व कप टूर्नामेंट की मेजबानी भारत को मिली है. लेकिन भारत में कोरोना वायरस की दूसरी लहर के बाद इसे सुरक्षित माहौल में ओमान और यूएई में कराने का फैसला लिया गया. हालांकि मेजबानी के अधिकार अभी भी भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के पास ही हैं. Also Read - Virender Sehwag बोले- गेंदबाजों के कप्तान रहे हैं MS Dhoni, मेंटॉर बनने से बुमराह & कंपनी को होगा फायदा

आईसीसी की वेबसाइट पर आजम ने कहा, ‘टी20 वर्ल्ड कप कार्यक्रम की घोषणा हमें इस बहुप्रतीक्षित वैश्विक टूर्नामेंट के लिए हमारी तैयारियों में एक कदम आगे लाती है. हम न्यूजीलैंड और इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू सीरीज में खेलकर बिल्ड-अप अवधि का उपयोग करेंगे. और न केवल हमारे अंतिम दृष्टिकोण को ठीक करने का लक्ष्य होगा, बल्कि अधिक से अधिक मैच जीतना भी होगा, ताकि हम उस विजयी फॉर्म और गति को संयुक्त अरब अमीरात (UAE) तक ले जा सकें.’ Also Read - MS Dhoni के मेंटोर बनने से गेंदबाजी यूनिट को काफी मदद मिलेगी: वीरेंद्र सहवाग

आजम ने चेतावनी देते हुए कहा कि पाकिस्तान के लिए टी20 विश्व कप एक घरेलू आयोजन की तरह है, क्योंकि यूएई एक दशक से अधिक समय से उनकी टीम का आयोजन स्थल है.

आजम ने कहा, ‘हमने न केवल अपनी प्रतिभा का पोषण किया है और यूएई में अपना पक्ष विकसित किया है, लेकिन इन परिस्थितियों में शीर्ष टीमों को हराकर आईसीसी टी20 टीम रैंकिंग में नंबर-1 पर पहुंच गए हैं. सभी खिलाड़ी उत्साहित, प्रेरित और उत्साही हैं, और इस टूर्नामेंट को हमारे कौशल का प्रदर्शन करने के अवसर के रूप में देखते हैं.’

उन्होंने कहा, ‘खेल के सबसे छोटे प्रारूप में अपनी श्रेष्ठता को उन परिस्थितियों में फिर से स्थापित करें जो हमारे लिए सबसे उपयुक्त हों.’ आजम ने कहा, ‘मैं अपने प्रदर्शन से अपने पक्ष को प्रेरित करने पर ध्यान केंद्रित करता हूं, ताकि हम एशिया में आईसीसी प्रमुख प्रतियोगिता जीतने वाले पहली पाकिस्तानी टीम बन सकें.’

(इनपुट: आईएएनएस)