कोविड-19 महामारी के खतरे की वजह से दुनिया भर में लागू किए गए लॉकडाउन के बीच पाकिस्तान क्रिकेट टीम के बल्लेबाज इमाम उल हक (Imam Ul Haq) ने कहा है कि दर्शकों की गैरमौजूदगी में टी20 विश्व कप (ICC T20 World Cup) का आयोजन होने से ये टूर्नामेंट अपना आकर्षण खो देगा। इमाम का मानना है कि विश्व ही नहीं बल्कि किसी भी क्रिकेट मैच का आयोजन बिना दर्शकों के नहीं होना चाहिए। Also Read - Prithvi Shaw में दूसरा Virender Sehwag बनने की क्षमता: पूर्व चयनकर्ता

इमाम ने कहा, “व्यक्तिगत रूप से मेरा मानना है कि अगर ये (टी20 विश्व कप) होता है तो इसका आयोजन दर्शकों की मौजूदगी में होना चाहिए, क्योंकि इसका आकर्षण खिलाड़ियों और सभी के लिए कुछ और है।” Also Read - अगर बॉलिंग नहीं कर सकते Hardik Pandya तो छोटे फॉर्मेट में भी फिट नहीं: पूर्व सिलेक्टर

उन्होंने कहा, “हालांकि इसका फैसला आईसीसी को करना है और हम उसका सम्मान करेंगे। उम्मीद करते हैं कि अच्छा होगा। लेकिन हमें साथ ही खिलाड़ियों और दर्शकों की सुरक्षा भी सुनिश्चित करनी है।” Also Read - Tim Paine पर भड़के Saba Karim, बोले- यह बयान 'बचकाना' नहीं बल्कि बड़ी 'बेवकूफी'

दरअसल आईसीसी के तय शेड्यूल के मुताबिक टी20 विश्व कप का आयोजन 18 अक्टूबर से 15 नवंबर 2020 तक होना है लेकिन अगर कोरोना वायरस महामारी को समय पर नियंत्रित नहीं किया जा सकता तो इस टूर्नामेंट को स्थगित करना पड़ सकता है।

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड द्वारा दो दिवसीय फिटनेस टेस्ट के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, “फिटनेस टेस्ट अच्छा है और खिलाड़ियों को हमेशा फिट रहना चाहिए। यह काफी मजेदार था। मैंने इसका आनंद लिया। फिटनेस टेस्ट खुद का मूल्यांकन करने के लिए है और खिलाड़ियों के लिए भी बहुत अच्छा है।”