नई दिल्ली. क्रिकेट का महाकुंभ मतलब विश्व कप करीब है. इस साल मई जून के महीने में इसका फीवर इंग्लैंड के रास्ते पूरी दुनिया पर चढ़ता दिखेगा. मतलब ये कि इधर भारत में जब गर्मी अपने चरम पर होगी उधर इंग्लैंड के ठंडे मौसम में क्रिकेट की लहर के असर से लोग तरबतर हो रहे होंगे. क्रिकेट के इस मेगा इवेंट के लिए इसमें भाग लेने वाले सभी टीमों की ओर से अपने अपने 15 खिलाड़ियों का चुना जाना अभी बाकी है. बहरहाल, ऑफिशिएल ना सही पर भारतीय सलेक्टर्स ने वर्ल्ड कप के लिए टीम इंडिया के 15 में से 14 खिलाड़ियों का नामों पर अपनी मुहर लगभग लगा दी है. यानि, जो एक पोजिशन खाली है सिर्फ उसके चुनाव के लिए माथा-पच्ची जारी है. और, भारतीय सलेक्टर्स की ये सिरदर्दी भी ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू वनडे सीरीज के बाद खत्म होने वाली है. हमारे ऐसा कहने के पीछे है टीम इंडिया के चीफ सलेक्टर एमएसके प्रसाद का एक इंटरव्यू में दिया वो बयान जिसमें उन्होंने खुद ये माना है कि 14 नाम लगभग तय हैं, बस एक स्पॉट का ही चुनाव बाकी है और वो आखिरी मिनटों में होगा.

रोहित शर्मा ने चुनी वर्ल्ड कप खेलने वाली ‘टीम इंडिया’, बोले- जो हिट नहीं वो फिट नहीं

वर्ल्ड कप की टीम पर बोले चीफ सलेक्टर

चीफ सलेक्टर प्रसाद से ये सवाल हुआ कि क्या उनके मुताबिक वर्ल्ड कप में खेलने वाले टीम इंडिया के 15 नाम तय है? इस पर उन्होंने अपनी रजामंदी जताते हुए हामी भरी और कहा, ” हां, बस एक स्पॉट पर फैसला होना है. बाकी नाम क्लियर है. टीम में एक जगह को लेकर फैसला न होने की वजह बताते हुए उन्होंने कहा कि ऐसा ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में कुछ खिलाड़ियों के दमदार परफॉर्मेन्स से मुमकिन हुआ है. लेकिन, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू सीरीज के बाद हम इस एक स्पॉट की भी भरपाई कर लेंगे. ”

क्या वो एक जगह मीडिल ऑर्डर की है?

एमएसके प्रसाद ने हालांकि ये नहीं बताया कि ये एक स्पॉट टीम के टॉप से लोअर ऑर्डर तक में कहां का है लेकिन ऐसा अनुमान है कि ये जगह टीम के मीडिल ऑर्डर की है. ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के जिस दौरे का जिक्र एमएसके प्रसाद ने अपने इंटरव्यू में किया वहां पर टीम के इसी ऑर्डर में कई खिलाड़ी आजमाए और परखे गए. हालांकि, इसके बावजूद भी जब कोई सटीक नतीजा निकलकर सामने नहीं आया है तो अब चीफ सलेक्टर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ होने वाली घरेलू वनडे सीरीज के भी खत्म होने का इंतजार करना चाहते हैं. उम्मीद है जब ये घरेलू सीरीज खत्म होगी तब तक सलेक्टर्स को अपने सारे अगर-मगर के जवाब मिल चुके होंगे और वर्ल्ड कप में लोहा लेने वाली टीम इंडिया भी कम्पलीट हो चुकी होगी.