नई दिल्ली. T20 को बल्लेबाजों का खेल कहा जाता है. लेकिन, इसी खेल में टीम इंडिया के उभरते युवा स्पिनर वाशिंगटन सुंदर ने जो कर दिखाया है, वो वाकई दुनिया जीतने जैसा है. क्रिकेट के जिस फॉर्मेट में बल्लेबाजों के विस्फोटक तेवर के आगे अच्छे अच्छे गेंदबाजों के पसीने छूटने लगते हैं, उसी फॉर्मट में खेली गई निदाहस ट्रॉफी में 18 साल के सुंदर चैम्पियन बनी टीम इंडिया के सिकंदर बनकर उभरे. Also Read - खत्म हुआ इंतजार, सामने आई अजय देवगन की मोस्ट अवेटेड फिल्म 'मैदान' की रिलीज डेट

Also Read - बिहार में फिर टूटा आसमानी बिजली का कहर, 15 लोगों की मौत

रिकॉर्डतोड़ सुंदर Also Read - SSR Suicide Case: पिता ने की CBI जांच की मांग, ट्वीट कर लिखा- 'आज मेरे बेटे सुशांत की आत्मा रो रही है'

श्रीलंका में खेली गई ट्राएंगुलर T20 सीरीज में 18 साल के वाशिंगटन सुंदर ने 5 मैचों में 8  विकेट चटकाए. इंटरनेशनल T20 के इतिहास में ये पहला मौका है जब 20 साल से कम उम्र के गेंदबाज ने एक ही सीरीज में 8 विकेट झटके. इस शानदार प्रदर्शन के लिए वाशिंगटन सुंदर को मैन ऑफ द सीरीज भी चुना गया. ये सुंदर का पहला मैन ऑफ द सीरीज खिताब है जिसे हासिल करने वाले 20 साल से कम उम्र के वो सिर्फ तीसरे गेंदबाज हैं.

बल्लेबाजों के खेल का ‘सिकंदर’

बल्लेबाजों के खेल में सुंदर अपना लोहा कैसे मनवाते हैं उसका अंदाजा आप ट्राएंगुलर T20 सीरीज में उनके इस प्रदर्शन को देखकर लगा सकते हैं. निदाहस ट्रॉफी में सुंदर ने पावर प्ले में कुल 13 ओवर किए यानी 78 गेंदे फेंकी और सिर्फ 77 रन देकर 6 विकेट चटकाए. इस दौरान उनका इकॉनोमी रेट 6 से भी कम का यानी कि 5.96 का रहा. दूसरे लहजे में कहें तो टूर्नामेंट में झटके 8 विकेटों में से सुंदर ने 6 विकेट पावर प्ले में लिए हैं.

दिलेर भी, कंजूस भी

बांग्लादेश के खिलाफ खेले फाइनल में सुंदर ने 4 ओवर में 20 रन देकर 1 विकेट हासिल किया. ये उनके करियर का लगातार छठा T20 इंटरनेशनल मुकाबला है जिसमें उन्होंने 4 ओवरों में 30 से कम रन लुटाए हैं. इससे पहले खेले 5 मुकाबलों में उन्होंने 22, 22, 28, 23 और 21 रन दिए थे. ये आंकड़े बताते हैं कि सुंदर ना सिर्फ बल्लेबाजों के खेल के दिलेर गेंदबाज हैं बल्कि कंजूस भी उतने ही हैं. फाइनल से पहले बांगलादेश के खिलाफ खेले आखिरी लीग मुकाबले में सुंदर ने 3 विकेट चटकाए थे. ये एक ही T20 मैच में सबसे कम उम्र में 3 विकेट लेने का भारतीय रिकॉर्ड है. 18 साल के सुंदर ने इस मामले में अक्षर पटेल का रिकॉर्ड तोड़ा है.

बांग्लादेश पर 362.5 की स्ट्राइक रेट से गिरी हार की बिजली तो चौंक गए 'पांडे जी'

बांग्लादेश पर 362.5 की स्ट्राइक रेट से गिरी हार की बिजली तो चौंक गए 'पांडे जी'

बाएं हाथ के बल्लेबाजों के लिए बड़ा खतरा

अब जरा एक और आंकड़ा देखिए और समझिए कि सुंदर टीम इंडिया के सिकंदर क्यों हैं. T20 क्रिकेट में वाशिंगटन ने अब तक 26 मैचों में 29 विकेट चटकाए हैं. इन 29 विकेटों में टीन एज भारतीय फिरकीबाज ने 9 बार दाएं हाथ के बल्लेबाजों को अपना शिकार बनाया है जबकि 20 बार बाएं हाथ के बल्लेबाजों को पवेलियन भेजा है.

वाशिंगटन का ‘सुंदर’ करियर

इंटरनेशनल T20 में वाशिंगटन का डेब्यू दिसंबर 2017 में हुआ. तब से लेकर अब तक वो 6 अंतर्राष्ट्रीय T20 मुकाबले खेल चुके हैं, जिनमें उन्होंने 9 विकेट चटकाए हैं. खास बात ये है कि इन 9 विकेट में से 8 विकेट उन्होंने निदाहस ट्रॉफी सीरीज में ही लिए हैं. यानी श्रीलंकाई सरजमीं पर खेली गई सीरीज वाशिंगटन सुंदर के करियर के लिए एक माइलस्टोन साबित हुई है.