नई दिल्ली. हैमिल्टन में टीम इंडिया के बल्लेबाजों ने ऐसे बल्लेबाजी की जैसे उसे कहीं जाने की जल्दी हो. उसकी ट्रेन छूट रही हो या फिर उनके बीच विकेट पर सबसे कम देर टिकने का चैलेंज लगा हो. खैर वजह चाहे जो भी हो लेकिन हैमिल्टन में जो हुआ उससे हाहाकर मच गया. भारतीय बैटिंग की जो तस्वीर निकलकर आई उसे देखकर यही लगा कि हर भारतीय बल्लेबाज एक दूजे से क्रीज पर आते जाते शायद यही कह रहा हो कि तू चल मैं आया यार. भारत तो ये बहाना भी नहीं कर सकता कि टॉस उसके फेवर में नहीं रहा. ऐसा इसलिए क्योंकि कप्तान रोहित शर्मा ने खुद ही ये स्वीकार किया था कि अगर वो टॉस जीतते तो वो भी अपने लिए बल्लेबाजी ही चुनते. अब इस टॉस ने टीम इंडिया का कैसे टोटल लॉस किया वो देखिए.

33 रन पर गिरे 4 विकेट

भारत का पहला विकेट 21 रन पर शिखर धवन के तौर पर गिरा. धवन 13 रन बनाकर बोल्ट का शिकार बने. लेकिन, ये क्या भारतीय स्कोर बोर्ड में अभी 2 रन ही और जुड़े थे कि बोल्ट ने रोहित शर्मा को भी नाप दिया. खैर, कहानी यहीं नहीं थमी. भारत का स्कोर 23 से 33 हुआ तो 2 और विकेट गिर गए. इस बार विकेट चटकाने का काम ग्रैंडहोमी ने किया, जिन्होंने रायडू और कार्तिक को खाता भी नहीं खोलने दिया.

40 रन तक 7 बल्लेबाज सिमटे

दूसरे छोर पर खड़े 19 साल के डेब्यूडेंट शुभमन गिल के लिए ये तस्वीर डराने वाली थी और इसका फायदा ट्रेंट बोल्ट ने बखूबी उठाया, जिन्होंने 33 रन पर ही भारत को 5वां झटका देते हुए गिल का शिकार किया. अब जब ऊपर के 5 बल्लेबाज कुछ नहीं कर सके तो बाकियों से क्या उम्मीद रहती. नतीजा, 40 रन पर भारत के 7 बल्लेबाज पवेलियन पहुंच गए.

टीम इंडिया 92 रन पर ऑल आउट

अब तो ये हवा उड़ी की कहीं टीम इंडिया सबसे लोएस्ट टोटल का अपना नया रिकॉर्ड न बना दे. लेकिन, भला हो हार्दिक पंड्या के बल्ले से निकले 3 चौकों का जो उन्होंने बोल्ट को मारे. हालांकि अपने अगले ही ओवर में बोल्ट ने उनका भी शिकार कर लिया. कुलदीप और चहल ने किसी फड़फड़ाते पंछी की तरह 9वें विकेट के लिए 25 रन जोड़े लेकिन ये प्रदर्शन भी भारत को 100 रन की दहलीज पार नहीं करा सका. भारतीय टीम सिर्फ 92 रन पर ऑल आउट हो गई.