इंदौर: भारतीय क्रिकेट टीम ने बीते मंगलवार को इंदौर के होल्कर स्टेडियम में श्रीलंका पर एक आसान सी जीत हासिल कर ली. तीन मैचों की इस सीरीज में टीम इंडिया ने मेहमान टीम पर1-0 की बढ़त बना ली है. इस मैच में भारतीय क्रिकेट टीम ने ओवरऑल प्रदर्शन की झलक दिखाई है. टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का निर्णय लेने वाले कप्तान विराट की एक नई फौज अपने फॉर्म में ढलती हुई नजर आ रही है. इस मैच में बल्लेबाजों ने यकीनन अच्छा प्रदर्शन किया और समय रहते ही मैच को अपने नाम कर लिया मगर गेंदबाजों ने अपने प्रदर्शन और संयम से यह गेम जीत लिया है. Also Read - ओलंपिक में हिस्सा लेगी भारतीय पुरुष क्रिकेट टीम!

इसी पर्फॉर्मन्सेस से प्रभावित तेज गेंदबाज शार्दुल ठाकुर का मानना है कि दो साल पहले की तुलना में वह बेहतर टी20 गेंदबाज बन गए हैं. शारदुल ने अपना पहला टी20 अंतरराष्ट्रीय मुकाबला 22 महीने पहले खेला था. श्रीलंका के खिलाफ दूसरे टी20 अंतरराष्ट्रीय में उन्होंने 23 रन देकर तीन विकेट चटकाए जो दर्शाता है कि 2018 में श्रीलंका में निदाहस ट्राफी की तुलना में उनकी डेथ ओवरों की गेंदबाजी में काफी सुधार हुआ है. निदाहस ट्राफी में बल्लेबाजों को शारदुल का सामना करने में अधिक परेशानी नहीं हुई थी. Also Read - BCCI के सालाना कॉन्ट्रेक्ट की ए+ कैटेगरी में कोहली, रोहित और बुमराह को मिली जगह; पांडे-जाधव बाहर

श्रीलंका के खिलाफ भारत की सात विकेट की जीत के बाद शार्दुल ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि टी20 इतना छोटा प्रारूप है कि इसमें हमेशा उतार-चढ़ाव देखने को मिलते हैं. आप जितना अधिक खेलेंगे उतना अनुभव हासिल करेंगे और टेस्ट क्रिकेट ऐसा प्रारूप है जिसमें आपके पास अपने खेल के बारे में सोचने का समय होता है लेकिन टी20 में आपके पास इतना समय नहीं होता.’’ शार्दुल का मानना है कि पिछले कुछ सत्र में नियमित तौर पर आईपीएल खेलना उनकी सफलता के कारणों में से एक है. Also Read - IPL 2021: इस सीजन मीडियो को भी नहीं मिलेगी स्‍टेडियम में एंट्री, इस तरह होगी मैच की कवरेज

ये यंग ब्रिगेड हैं टीम इंडिया की जीत के रियल हीरोज, श्रीलंका को टी-20 में दी लगातार छठी बार मात

शार्दुल ने कहा, ‘‘जब भी आप अभ्यास करते हो तो आपको अपने मजबूत पक्षों को और मजबूत करना होता है और अपने कौशल में सुधार करना होता है. मैं अभ्यास के दौरान अपने कौशल में सुधार कर रहा हूं और इसे निखार रहा हूं. पिछले दो-तीन साल में आईपीएल और घरेलू क्रिकेट में खेलने से मैं बेहतर हुआ हूं.’’ युवा तेज गेंदबाजों की तरह शारदुल ने भी अपने प्रदर्शन में सुधार में भारतीय टीम के गेंदबाजी कोच भरत अरूण के योगदान को स्वीकार किया.

शार्दुल ने कहा, ‘‘इस समय किसी विशेष कोच के साथ काम करना काफी मुश्किल है क्योंकि मैं भारतीय टीम में अंदर-बाहर होता रहा हूं. कभी मैं मुंबई के लिए खेलता हूं, फिर चेन्नई सुपरकिंग्स. अब मैं फिर भारतीय टीम के साथ हूं. लेकिन हाल में हमारे गेंदबाजी कोच (भारतीय राष्ट्रीय गेंदबाजी कोच) भरत अरूण ने काफी मदद की.’’ मुंबई के इस तेज गेंदबाज ने अपने तीनों विकेट 19वें ओवर में हासिल किए और उनकी योजना चीजों को सामान्य बनाए रखने की थी.

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे जितना अधिक संभव हो उतनी खाली गेंद फेंकनी थी. भाग्य से मुझे तीन विकेट मिले. यह संतोषजनक है. मैं इसके लिए कड़ी मेहनत कर रहा था. अंतरराष्ट्रीय मैच में जब यह काम कर जाता है तो मुझे बेहद खुशी होती है.’’

चोटिल युवा ओपनर पृथ्वी शॉ न्यूजीलैंड दौरे पर इंडिया ए के दो प्रैक्टिस मैचों से बाहर

श्रीलंका की टीम पहले बल्लेबाजी करते हुए नौ विकेट पर 142 रन ही बना सकी जिस लक्ष्य को भारत ने आसानी से हासिल कर लिया. शारदुल ने कहा कि हालात को देखते हुए यह प्रतिस्पर्धी स्कोर नहीं था. शार्दुल ने साथी तेज गेंदबाज नवदीप सैनी की भी तारीफ की जिन्होंने मंगलवार को प्रभावी गेंदबाजी की. उन्होंने कहा, ‘‘इस मैच में उसने काफी अच्छी गेंदबाजी की. उसने जिस तरह बाउंसर और यार्कर का इस्तेमाल किया वह सराहनीय है. वह जज्बे के साथ गेंदबाजी कर रहा था.’’