नई दिल्ली : ऑस्ट्रेलिया के पूर्व तेज गेंदबाज जेसन गिलेस्पी को लगता है कि जसप्रीत बुमराह की अगुवाई वाला मौजूदा गेंदबाजी आक्रमण भारत को आगामी आईसीसी विश्व कप में मेजबान इंग्लैंड के साथ प्रबल दावेदारों में से एक बनाता है. गिलेस्पी ने एक इंटरव्यू में कहा, ‘‘मुझे लगता है कि भारतीय आक्रमण बहुत संतुलित है. बुमराह को कुछ निश्चित कारण से आराम दिया गया है लेकिन उनका आक्रमण फिर भी काफी अच्छा है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘हर कोई अलग अलग तरह की गेंदबाजी करता है और आप इसमें बुमराह को भी जोड़ दीजिये तो वे विश्व कप में चुनौती पेश करने के लिये बेहतर स्थान पर मौजूद हैं. मुझे लगता है कि इंग्लैंड निश्चित रूप से प्रबल दावेदार है लेकिन भारत भी इसमें पीछे नहीं है.’’

वर्ल्ड कप 2019: इंग्लैंड के पूर्व खिलाड़ी की भविष्यवाणी, बताया कौन जीत सकता है फाइनल

गिलेस्पी ने बुमराह की विशेष तारीफ की और कहा कि इस गेंदबाज का गैर पारंपरिक गेंदबाजी एक्शन उसे अन्य गेंदबाजों से अलग बनाता है. इस 43 साल के पूर्व तेज गेंदबाज ने कहा, ‘‘मुझे बुमराह को गेंदबाजी करते हुए देखना पसंद आता है. वह धीरे धीरे चलता हे लेकिन जब वह क्रीज पर आता है तो उसका एक्शन तेज तर्रार होता है. वह अच्छी रफ्तार से गेंदबाजी करता है, बल्लेबाज को परेशान करता है और वह अपनी रफ्तार में काफी बदलाव भी कर सकता हैं वह बहुत ही शानदार गेंदबाज है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘उसका एक्शन बेहतरीन है. वह गेंद फेंकते हुए पैर आगे करता है, उसकी बांह का एक्शन जरा देर से होता है. वह आपको स्लिंग शॉट फेंकता है. इससे ही रफ्तार बनती है. लेकिन आपको ऐसा करने के लिये मजबूत होने की जरूरत है. बुमराह मजबूत है और टेस्ट क्रिकेट में लंबे स्पैल फेंकने के लिये फिट है. वह टेस्ट में हमेशा अपनी रफ्तार बनाये रखता है और यही चीज उसे बेहतरीन गेंदबाज बनाती है.’’

चहल के चैनल पर कोहली ने दिया मजेदार इंटरव्यू, देखें VIDEO

भारत और ऑस्ट्रेलियाई टीम तीन मैचों की वनडे सीरीज में 1-1 से बराबर चल रही हैं और निर्णायक मैच शुक्रवार को मेलबर्न में खेला जायेगा. ऑस्ट्रेलियाई टीम जनवरी 2017 के बाद पहली वनडे सीरीज जीतने पर निगाह लगाये है और गिलेस्पी ने कहा कि युवाओं के लिये यह बेहतरीन मौका है. उन्होंने कहा, ‘‘निश्चित रूप से उन्हें बल्लेबाजी और गेंदबाजी में दो अहम खिलाड़ियों की कमी खल रही हैं लेकिन विश्व कप में टीम बहुत अलग दिखायी देगी. इसलिये इन खिलाड़ियों के लिये यह शानदार मौका होगा और साथ ही चयनकर्ताओं के लिये भी कि वे दबाव भरे हालात में अलग विकल्प देखें. ’’