ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज शुरू होने से पहले कई भारतीय स्क्वाड में ऑलराउंडर खिलाड़ियों की कमी को लेकर काफी चर्चा हुई थी, वहीं सिडनी में मिली हार के बाद खुद कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने माना कि टीम में अतिरिक्त गेंदबाजी विकल्प नहीं हैं। अब पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) ने इस मामले में अपनी चिंता व्यक्त की है। Also Read - India vs Australia 4th Test: रोहित शर्मा को अपने शॉट पर आउट होने का नहीं कोई पछतावा, बोले- ऐसे ही खेलूंगा

गंभीर का मानना है कि ‘आधे फिट’ हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) का सही विकल्प नहीं मिलने पर भारतीय टीम में संतुलन नहीं बन सकेगा क्योंकि पांड्या के विकल्प विजय शंकर उतने असरदार नहीं है। ऑलराउंडर की भूमिका में टीम में शामिल हुए पांड्या फिलहाल स्पेशलिस्ट बल्लेबाज के तौर खेल रहे हैं चूंकि वो गेंदबाजी के लिए पूरी तरह फिट नहीं हैं। Also Read - ब्रिसबेन टेस्‍ट में रोहित शर्मा लंगड़ाकर चलते हुए आए नजर, भारत के लिए बजी खतरे की घंटी

दो बार विश्व कप में भारत की जीत के नायक रहे गंभीर ने ईएसपीएन क्रिकइंफो से कहा, ‘‘पिछले विश्व कप से ही संतुलन की समस्या देखने को मिल रही है। हार्दिक गेंदबाजी नहीं कर पा रहा है तो आपका छठां गेंदबाज कौन है। विजय शंकर है लेकिन पांचवें या छठे नंबर पर वो उस तरह से असरदार नहीं है। क्या वो सात या आठ ओवर डाल सकता है। मुझे नहीं लगता।’’ Also Read - बारिश से प्रभावित मुकाबले में भारत ने बनाए 62/2, ऑस्‍ट्रेलिया के पास 307 रन की बढ़त

गंभीर ने कहा कि रोहित शर्मा जैसे सलामी बल्लेबाज की वापसी पर भी ये समस्या नहीं सुलझने वाली। उन्होंने कहा, ‘‘आप मनीष पांडे को शामिल करने की बात कर सकते हैं या रोहित के लौटने पर भी ये समस्या तो रहेगी ही। शीर्ष छह बल्लेबाजों में से कोई भी गेंदबाजी नहीं कर सकता।’’

गंभीर ने भारतीय स्क्वाड की तुलना ऑस्ट्रेलिया से की, जहां मार्कस स्टोइनिस, ग्लेन मैक्सवेल, मोइसिस हेनरिक्स, कैमरून ग्रीन और सीन एबॉट समेत कई ऑलराउंडर खिलाड़ी हैं। उन्होंने कहा, ‘‘ऑस्ट्रेलियाई टीम को देखो। मोइसिस हेनरिक्स कुछ ओवर डाल सकता है । सीन एबॉट बॉलिंग ऑलराउंडर है और डेनियल सैम्स भी।’’