नई दिल्ली. टीम इंडिया ने घरेलू टेस्ट सीरीज में वेस्टइंडीज का सूपड़ा साफ करते हुए 2 टेस्ट मैचों की सीरीज 2-0 से जीती. टीम इंडिया ने वेस्टइंडीज के खिलाफ राजकोट में खेला पहला टेस्ट पारी के अंतर से जीता जबकि हैदराबाद में खेले दूसरे टेस्ट को 10 विकेट के बड़े फासले से अपने नाम किया. कमाल की बात ये रही कि इन दोनों टेस्ट में जीत दर्ज करने के लिए भारतीय खिलाड़ियों ने सिर्फ 3 दिन का वक्त लिया. इंग्लैंड की हार के बाद मिली ये जीत यकीनन टीम इंडिया के लिए ऑस्ट्रेलिया दौरे से पहले हौसला बढ़ाने वाली है. इस जीत से ICC रैंकिंग में टीम इंडिया के प्वाइंट में एक अंक का उछाल भी दिखेगा. लेकिन, जो सबसे बड़ी कामयाबी वेस्टइंडीज के खिलाफ घरेलू टेस्ट सीरीज जीतकर टीम इंडिया ने हासिल की है, वो है ऑस्ट्रेलिया की बराबरी.Also Read - Highlights IND vs PAK, T20 World Cup 2021: पाकिस्‍तान ने भारत को दी पहली बार टी20 विश्‍व कप में मात, 10 विकेट से हारा भारत

Also Read - ऑस्ट्रेलिया कोच के तौर पर अपना कॉन्ट्रेक्ट बढ़ाना चाहते हैं जस्टिन लैंगर, कहा- मुझे खिलाड़ियों का पूरा समर्थन

रवि शास्त्री ने बताया, रिषभ पंत और रिद्दिमान साहा में किसे मिलेगा ऑस्ट्रेलिया का टिकट? Also Read - India vs Pakistan T20 World Cup 2021: राशिद लतीफ बोले- पाकिस्‍तान चाहे कितना भी अच्‍छा खेल ले, भारतीय क्रिकेटर्स ने गलती नहीं की तो…

ऑस्ट्रेलिया के नाम वर्ल्ड रिकॉर्ड

टेस्ट क्रिकेट में अपनी सरजमीं पर लगातार सबसे ज्यादा 10 सीरीज जीतने का वर्ल्ड रिकॉर्ड अब तक सिर्फ ऑस्ट्रेलिया के नाम दर्ज था. कंगारू टीम ने ऐसा एक बार नहीं बल्कि दो बार किया है. पहली बार 1994 से 2001 के बीच उसने लगातार 10 टेस्ट सीरीज अपने घर में जीते और दूसरी बार इसी रामकहानी को 2004 से 2008 के बीच दोहराया.

भारत ने की ऑस्ट्रेलिया की बराबरी

भारत ने भी वेस्टइंडीज के खिलाफ जो टेस्ट सीरीज जीती है वो घरेलू सरजमीं पर उसकी लगातार 10वीं टेस्ट सीरीज है. टीम इंडिया ने 2013 से 2018 के बीच ये कमाल कर ऑस्ट्रेलिया की बराबरी की है.

2000 से अब तक सिर्फ 3 सीरीज हारा

21वीं सदी यानी साल 2000 से अब तक भारत ने अपनी धरती पर कुल 34 टेस्ट सीरीज खेली हैं, जिसमें 26 उसने जीते हैं, सिर्फ 3 गंवाए हैं और 5 मुकाबले ड्रॉ रहे हैं. जिन 3 टेस्ट सीरीज में टीम इंडिया को हार का मुंह देखना पड़ा वो उसने साल 2000 में साउथ अफ्रीका, 2004 में ऑस्ट्रेलिया और 2012 में इंग्लैंड के खिलाफ गंवाए हैं.