नई दिल्ली. वनडे सीरीज के आखिरी मुकाबले में इंग्लैंड ने टीम इंडिया को 8 विकेट से हराया. इस जीत के साथ इंग्लैंड ने वनडे सीरीज पर 2-1 से कब्जा जमाया. लेकिन, क्या आपको पता है कि लीड्स के हेडिंग्ले मैदान पर खेले आखिरी वनडे में टीम इंडिया की ये हार पहले से तय थी. जी हां, भारतीय टीम की हार इंग्लैंड के खिलाफ आखिरी वनडे में उसी वक्त तय हो चुकी थी, जिस वक्त उसने स्कोर बोर्ड पर मेजबान टीम के लिए टारगेट सेट किया था.

इंग्लैंड से हार के बाद टीम इंडिया को पाकिस्तान ने दी ‘नसीहत’, सहवाग ने दिया ये रिएक्शन

भारत की हार का असली फैक्टर

हम ऐसा क्यों कह रहे हैं अब जरा वो समझिए. टीम इंडिया ने सीरीज के आखिरी वनडे में पहले बल्लेबाजी करते हुए 8 विकेट खोकर 256 रन बनाए. इंग्लैंड को 257 रन का टारगेट मिला, जिसे मेजबान टीम ने बड़ी आसानी से 2 विकेट खोकर हासिल कर लिया. ऐसा होना भी तय था क्योंकि हेडिंग्ले में कभी भी 270 से कम रन का टोटल डिफेंड कर कोई भी टीम नहीं जीत सकी थी. इसका मतलब है कि टीम इंडिया को सीरीज जीतने के लिए हेडिंग्ले का इतिहास बदलना होता. लेकिन, वो ऐसा करने में नाकाम रहे और सीरीज इंग्लैंड की झोली में चली गई.

5 साल, 10 सीरीज और सिर्फ 1 हार… विराट कोहली की कप्तानी का फुल ‘रिपोर्ट कार्ड’

हेडिंग्ले में सर्वाधिक स्कोर

हेडिंग्ले मैदान पर टीम इंडिया का सर्वाधिक स्कोर 324 रन का है, जो उसने साल 2007 में इंग्लैंड के खिलाफ बनाए थे. उस मैच में भारत को 38 रन से जीत मिली थी. बता दें कि हेडिंग्ले में भारत ने अब तक सिर्फ 2 वनडे मुकाबले जीते हैं. हेडिंग्ले में सबसे बड़ा स्कोर 339 रन का है, जो इंग्लैंड ने ही पिछले साल साउथ अफ्रीका के खिलाफ बनाए थे.