एडिलेड टेस्ट में टीम इंडिया (India vs Australia) के लचर प्रदर्शन के बाद भारतीय टीम बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी (Border Gavaskar Trophy) में 0-1 से पिछड़ गई है. भारत मेलबर्न में खेले जाने वाले सीरीज के दूसरे टेस्ट में वापसी को बेताब होगा. पहले से ही तय कार्यक्रम के मुताबिक दूसरे टेस्ट में कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) का साथ टीम को नहीं मिलेगा. इसके अलावा टीम में 3 और चेंज संभव दिख रहे हैं. Also Read - कप्तान अजिंक्य रहाणे के पूछने पर गाबा टेस्ट में चोट के साथ गेंदबाजी को तैयार थे नवदीप सैनी

अनुभवी विकेटकीपर बल्लेबाज रिद्धिमान साहा (Wriddhiman Saha) और युवा सलामी बल्लेबाज पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) की दूसरे टेस्ट के प्लेइंग XI में चुने जाने संभावना कम है. इसके अलावा तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी (Mohammed Shami) की भी कलाई में हेयरलाइन फ्रैक्चर बताया जा रहा है, जिसके चलते यह तेज गेंदबाज भी प्लेइंग XI का हिस्सा नहीं बन पाएगा. Also Read - ऑस्ट्रेलिया दौरे से पहले युवराज सिंह के साथ किए अभ्यास ने शॉर्ट गेंदो का सामना करने में मदद की: शुबमन गिल

इस तरह 26 दिसंबर से मेलबर्न टेस्ट में शुरू होने वाले बॉक्सिंग डे (Boxing Day Test Match) में भारतीय टीम का इन 4 बदलावों के साथ उतरना तय माना जा रहा है. भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया में बाकी की चुनौती का सामना अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) की अगुआई में करेगी. अनुभवी रोहित शर्मा (Rohit Sharma) अपनी चोट से भले पूरी तरह उबर चुके हैं लेकिन वह तीसरे टेस्ट मैच से पहले टीम के साथ नहीं जुड़ पाएंगे. Also Read - ऑस्ट्रेलिया के सफल दौरे से लौटे मोहम्मद सिराज ने खरीदी बीएमडब्ल्यू कार

ऐसे में अभ्यास मैच में अपनी शानदार बैटिंग से प्रभावित करने वाले युवा बल्लेबाज शुबमन गिल (Shubman Gill) को शॉ के स्थान पर बतौर सलामी बल्लेबाज मौका मिल सकता है. विराट कोहली बाकी सीरीज का हिस्सा नहीं होंगे ऐसे में युवा बल्लेबाज केएल राहुल (KL Rahul) को उनके स्थान पर मौका मिल सकता है.

टीम प्रबंधन उन्हें विराट की पॉजिशन नंबर 4 या फिर अजिंक्य रहाणे (अगर रहाणे नंबर 4 पर उतरते हैं तो) के स्थान नंबर 5 पर मौका दे सकता है. इसके बाद अनुभवी विकेटकीपर बल्लेबाज रिद्धिमान साहा पिंक बॉल टेस्ट की दोनों पारियों में नाकाम साबित हुए हैं. ऐसे में टीम मैनेजमेंट रिषभ पंत (Rishabh Pant) को आजमाना चाहेगा.

पंत यहां अभ्यास मैच में भी शतक जमा चुके हैं. इसके अलावा उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के पिछले दौरे (2018) में भी एक शतकीय पारी खेली थी. साहा का बल्ला साउथ अफ्रीका, इंग्लैंड, न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया (SENA देशों) में खामोश ही रहा है. इन देशों में वह एक हाफ सेंचुरी तक नहीं जमा पाए हैं.

पूर्व मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद (MSK Prasad) ने कहा कि उनके कार्यकाल के दौरान साहा और पंत को लेकर योजना थी. उन्होंने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘हमारी योजना साफ थी कि इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों में पंत विकेटकीपिंग के लिए पहली पसंद थे, जबकि भारत में जहां छठे क्रम के बाद ज्यादा बल्लेबाजी की जरूरत नहीं होती वहां आप विशेषज्ञ विकेटकीपर को टीम में रख सकते हैं.’

प्रसाद ने कहा, ‘मेरा मानना ​​है कि पंत ने पिछले कुछ महीनों में अपनी फिटनेस में सुधार किया है और गुलाबी गेंद के अभ्यास के दौरान अच्छी लय में दिखे. ऐसे में अगले 3 टेस्ट में अगर उन्हें मौका मिलता है तो मैं टीम प्रबंधन का समर्थन करूंगा.’

मोहम्मद शमी की जगह मोहम्मद सिराज (Mohammed Siraj) अपने टेस्ट डेब्यू का मौका मिल सकता है. शमी की जगह टीम में स्थान पाने के लिए सिराज और नवदीप सैनी (Navdeep Saini) के बीच मुकाबला कड़ा है. अभ्यास मैचों में बेहतर प्रदर्शन करने वाले सिराज का दावा हालांकि अधिक मजबूत है.

उन्होंने कहा, ‘जहां तक पृथ्वी शॉ की बात है तो 21 वर्षीय मुंबई के इस बल्लेबाज की तकनीक, खेल को लेकर स्वभाव और उनके पूरे रवैये से भारतीय क्रिकेट गलियारों में कुछ गंभीर सवाल खड़े हो गए हैं. बल्लेबाजी में उनकी तकनीकी खामियों के साथ-साथ उनकी फील्डिंग भी इंटरनेशनल स्तर की नहीं है. आईपीएल के समय से ही उनकी फील्डिंग को लेकर सवाल उठ रहे हैं.’

आउटफील्ड में धीमे होने के साथ-साथ शॉ ने मार्नस लाबुशेन का आसान कैच भी टपका दिया, जिससे टीम के ऊपर 30 रन का अतिरिक्त बोझ पड़ा.