नई दिल्ली. एडिलेड टेस्ट में टीम इंडिया ने ऐतिहासिक जीत दर्ज की. ऑस्ट्रेलिया पर 31 रन की बेमिसाल के साथ भारत ने 4 टेस्ट मैचों की सीरीज में 1-0 की लीड भी ले ली. हालांकि, एडिलेड में ऑस्ट्रेलिया पर टीम इंडिया की जीत के लिए चेतेश्वर पुजारा और भारतीय गेंदबाज 2 बड़ी वजह रहे. इन 2 वजहों की बदौलत टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया से सिर्फ एडिलेड ही नहीं जीता बल्कि ऐसा करते हुए पाकिस्तान की एक पुरानी स्टोरी को भी रिपीट कर दिया. Also Read - ‘ट्रेसर बुलेट’ की तरह घूम रही COVID-19 महामारी से बचने के लिए घरों में रहें: रवि शास्त्री

ऑस्ट्रेलिया और जीत के बीच आए पुजारा Also Read - COVID-19: कोहली एंड कंपनी का ऑस्ट्रेलिया दौरा अधर में, ये है वजह

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच एडिलेड टेस्ट में सबसे बड़ा फर्क पैदा किया पुजारा ने. एडिलेड टेस्ट की दोनों पारियों में भारत को जिस तरह की बल्लेबाजी की उनसे दरकार थी वो उस पर पूरी तरह से खरे उतरे. पहली पारी में जहां भारत के एक के बाद एक चटकते विकेटों के बीच संयम के साथ बल्लेबाजी करने की जरुरत थी वहां पुजारा ने ठीक वैसा ही करते हुए 246 गेंदों का सामना कर 123 रन की महत्वपूर्ण पारी खेली. तो वहीं दूसरी पारी में जब ऑस्ट्रेलियाई स्पिनर नाथन लियॉन के साथ सूझ-बूझ दिखाने की बारी आई तो पुजारा उसमें भी हिट रहे. ये अलग बात है कि अंत में वो लियॉन का ही शिकार बने लेकिन आउट होने से पहले वो अपना काम कर चुके थे. पुजारा ने दूसरी पारी में 204 गेंदों का सामना करते हुए 71 रन बनाए. एडिलेड की दोनों पारियों में बेहतरीन बल्लेबाजी के लिए पुजारा को मैन ऑफ द मैच भी चुना गया. ये एशिया के बाहर पुजारा का पहला मैन ऑफ द मैच अवार्ड है. Also Read - ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज ने वीवीएस लक्ष्मण की इस पारी को सर्वकालिक पसंदीदा पारियों में से एक बताया

एडिलेड में टीम इंडिया के सामने ऑस्ट्रेलिया ‘ZERO’, कप्तानी में विराट कोहली बने एशिया के ‘HERO’

भारतीय गेंदबाजों अनुशासन पड़ा भारी

एडिलेड में ऑस्ट्रेलिया पर टीम इंडिया की जीत में दूसरा बड़ा फैक्टर हैं भारतीय गेंदबाज. भारत के तेज गेंदबाजों ने ऑस्ट्रेलिया में 141.4 किलोमीटर प्रति घंटे की औसत रफ्तार से करीब 51 फीसदी डिलीवरी गुड लाइन और लेंथ पर डाली. जबकि इनके मुकाबले ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाजों ने सिर्फ 37 फीसदी गेंदे ही गुड लाइन लेंथ पर डाली. ये SENA कंट्री में भारतीय तेज गेंदबाजों का साल 2006 के बाद अब तक का सबसे तेज और सबसे अनुशासित परफॉर्मेन्स है. तेज गेंदबाजों की अनुशासित गेंदबाजी के अलावा अश्विन की स्पिन भी टीम इंडिया के लिए एक्स फैक्टर साबित हुई, जिन्होंने मैच में कुल 6 विकेट लिए.

कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया का अद्भुत संयोग, टॉस जीतने पर कभी नहीं हारा टेस्ट मैच

‘पाकिस्तान’ की पुरानी स्टोरी रिपीट

अब जरा ये समझिए भारत के ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एडिलेड जीतने से पाकिस्तानी की पुरानी स्टोरी कैसे रिपीट हो गई. भारत ने ऑस्ट्रेलिया को एडिलेड टेस्ट में हराकर पहली बार कंगारुओं की धरती पर टेस्ट सीरीज का ओपनिंग मैंच जीतने का कमाल किया है. ये कमाल करने वाली वो पाकिस्तान के बाद दूसरी एशियाई टीम है. पाकिस्तान ने 39 साल पहले यानी 1979 में ऑस्ट्रेलिया को मेलबर्न में खेले टेस्ट सीरीज के पहले मैच में मात दी थी.