नई दिल्ली : भारतीय टीम ने गुरूवार को तिरुवनंतपुरम में पांचवें और अंतिम वनडे में वेस्टइंडीज को नौ विकेट से रौंदकर घरेलू सरजमीं पर लगातार छठी श्रृंखला अपने नाम की. बायें हाथ के स्पिनर रविंद्र जडेजा के चार विकेट की मदद से भारत ने यहां ग्रीनफील्ड स्टेडियम में वेस्टइंडीज को महज 31.5 ओवर में 104 रन पर समेट दिया. तेज गेंदबाज खलील अहमद और जसप्रीत बुमराह ने दो दो विकेट हासिल किये. Also Read - लॉकडाउन में बुर्जुग पिता कर रहे इस भारतीय विकेटकीपर की प्रैक्टिस में मदद

Also Read - जसप्रीत बुमराह ने लसिथ मलिंगा के लिए कहा कुछ ऐसा कि सुनकर गदगद हो जाएगा 'यॉर्कर किंग'

घरेलू टीम को इस अदना से लक्ष्य को हासिल करने में महज 14.5 ओवर लगे जिसमें रोहित शर्मा (54 गेंद में 62 रन) और कप्तान विराट कोहली (29 गेंद में 33 रन) ने दूसरे विकेट के लिये नाबाद 99 रन की साझेदारी निभायी. शिखर धवन (06) फिर कम स्कोर पर आउट हो गये. वेस्टइंडीज के खिलाड़ियों ने पहले तीन वनडे में काफी प्रतिस्पर्धी खेल दिखाया था लेकिन गुरूवार को उन्होंने पूरी तरह घुटने टेक दिये. मुंबई में पिछले मैच में भी मेजबान टीम ने दबदबा बनाया था और इस तरह उन्होंने श्रृंखला 3-1 से जीत ली. Also Read - शुरुआत में लगा कि ठीक हूं लेकिन अब असहज महसूस कर रहा हूं : आर अश्विन

भारत को पिछली बार घरेलू सरजमीं पर श्रृंखला में 2015 में हार मिली थी जिसमें वे दक्षिण अफ्रीका से 2-3 से पराजित हो गये थे. शानदार प्रदर्शन करने वाले गेंदबाजों ने बड़ी जीत की नींव रखी जिसके बाद मेजबान टीम ने 105 रन के लक्ष्य को पूरा करने में जरा भी समय बर्बाद नहीं किया. रोहित ने भी बेहतरीन फॉर्म जारी रखते हुए अपना अर्धशतक पूरा किया और इस दौरान वह कैलेंडर वर्ष 2018 में 1000 रन बनाने वाले खिलाड़ियों की सूची में शामिल हो गये. उन्होंने वनडे में अपना 200वां छक्का भी जड़ा.

विराट कोहली 15वीं बार बने ‘मैन ऑफ द सीरीज’, जैक कालिस की बराबरी पर पहुंचे

भारतीय उप कप्तान जब 18 रन पर थे, उन्हें ओशाने थॉमस की गेंद पर शाई होप ने जीवनदान दिया. उन्होंने इस जीवनदान का पूरा फायदा उठाते हुए अपनी नाबाद पारी के दौरान पांच चौके और चार गगनचुंबी छक्के जड़े. कोहली भी दूसरे छोर पर मजबूती से टिके थे जिनकी पारी में छह चौके शामिल रहे. भारत के लिये हालांकि धवन का इस तरह आउट होना मायूस करने वाला रहा क्योंकि वह थॉमस की गेंद पर बोल्ड हो गये जिनकी लाइन एवं लेंथ इतनी सटीक नहीं थी.

मेहमान टीम के कप्तान जेसन होल्डर ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी का फैसला किया लेकिन वे शुरू से ही मुश्किल में दिखे. तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ने कीरोन पॉवेल को चौथी ही गेंद पर आउट किया, यह बल्लेबाज खाता भी नहीं खोल सका था और विकेट के पीछे महेंद्र सिंह धोनी को कैच दे बैठा. शाई होप इस दौरे पर शिमरोन हेटमायर के साथ वेस्टइंडीज के बेहतरीन बल्लेबाज रहे हैं, लेकिन बुमराह ने दूसरे ओवर में खूबसूरत गेंद पर उनका विकेट झटका जिससे टीम का स्कोर दो विकेट पर दो रन था.

राहुल द्रविड़ ICC हॉल ऑफ फेम में शामिल, उपलब्धि हासिल करने वाले पांचवें भारतीय

अनुभवी खिलाड़ी मार्लोन सैमुअल्स से टीम को काफी उम्मीदें थी, उन्होंने कुछ बेहतरीन बाउंड्री और पारी का एकमात्र छक्का जड़कर इन्हें पूरा करने का प्रयास किया. भारतीय दबदबे का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि पहली बाउंड्री छठे ओवर में लगी जब रोवमैन पॉवेल ने बुमराह की गेंद को उठाकर इस पर चौका लगाया. सैमुअल्स की 24 रन की पारी भी 12वें ओवर में समाप्त हो गयी जब जडेजा की गेंद पर कप्तान विराट कोहली ने शानदार कैच लिया.

होल्डर ने संयम से खेलते हुए भारतीय गेंदबाजों का सामना करना जारी रखा लेकिन वह भी ज्यादा देर तक क्रीज पर नहीं टिक सके और 25 रन बनाकर शीर्ष स्कोर रहे. उन्होंने खलील अहमद की गेंद को ऊपर खेलने का प्रयास किया और डीप में खड़े केदार जाधव ने दौड़ते हुए उनका कैच लिया. इसके बाद स्पिनरों ने पुछल्ले बल्लेबाजों को समेट दिया.