नई दिल्ली. मेलबर्न की पिच पर तेज गेंदबाजों का बोलबाला रहा. भारत और ऑस्ट्रेलिया दोनों टीमों के गेंदबाजों ने गदर मचाया. भारत की ओर से जहां बुमराह ने मैच में 9 विकेट झटककर ऑस्ट्रेलिया को जीत की राह से गुमराह किया तो वहीं ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज पैट कमिंस को भी उनके करियर बेस्ट शो को सजाने में मदद की. दूसरे लहजे में कहें तो पिच पर गेंदबाजों के लिए राहत थी वहीं बल्लेबाजों के लिए आफत.

विराट की कप्तानी का रहा साल 2018 में ‘बोलबाला’, भारतीय क्रिकेट के हर बड़े रिकॉर्ड का टूटा ‘ताला’

शॉर्ट बॉल का ‘खेल’

विकेट चटकाने के लिए भारत और ऑस्ट्रेलिया दोनों के तेज गेंदबाजों ने अपनी तरकस के कई हथियार प्रयोग किए. लेकिन, एक हथियार यानी कि एक वो गेंद जो सबसे ज्यादा सफल रही वो रही शॉर्ट बॉल. मेलबर्न टेस्ट में तेज गेंदबाजों ने 29 विकेट चटकाए, इनमें से 12 विकेट शॉर्ट बॉल पर गिरे. मतलब ये कि गेंदबाज ने गेंद को बल्लेबाज के स्टंप्स से 8 मीटर पहले टप्पा खिलाया और विकेट चटकाया.

ऋषभ पंत ने डेब्यू कैलेंडर ईयर में तोड़ा वर्ल्ड रिकॉर्ड, ऐसा करने वाले पहले भारतीय विकेटकीपर

ऑस्ट्रेलिया पर आफत, विराट को राहत

मेलबर्न टेस्ट में शॉर्ट बॉल के कहर का असर दोनों टीमों पर क्या हुआ, इसने कैसे विराट को बाहुबली बनाया, अब जरा वो समझिए. शॉर्ट बॉल के कहर से विराट की कप्तानी में भारत ने विदेशी सरजमी पर एक कैलेंडर ईयर में सबसे ज्यादा 4 जीत का रिकॉर्ड बनाया. वहीं, दूसरी ओर ऑस्ट्रेलिया को एक कैलेंडर ईयर में अपने घर में 10वीं हार झेलनी पड़ी. बता दें कि साल 2018 में ऑस्ट्रेलिया सिर्फ 3 टेस्ट ही जीत सका, जो कि 1996 में बनाए उसके सबसे कम टेस्ट जीतने के रिकॉर्ड की बराबरी है.