एडीलेड. भारतीय कप्तान विराट कोहली ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे एकदिवसीय मैच में जीत दर्ज करने के बाद मंगलवार महेन्द्र सिंह धोनी की तारीफ करते हुए कहा कि आज वह अपने चिर-परिचित अंदाज में दिखे. मैन ऑफ द मैच कोहली (104) की शतकीय पारी के बाद धोनी ने 54 गेंद में नाबाद 55 रन की पारी खेलकर भारत को छह विकेट से जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई. इस जीत से तीन मैचों की श्रृंखला को भारत 1-1 से बराबर करने में सफल रहा. कोहली ने मैच के बाद कहा, ‘‘ इसमें कोई शक नहीं कि उन्हें इस टीम का हिस्सा होना चाहिए. आज एमएस (धोनी) उस अंदाज में दिखे, जिसके लिए जाने जाते हैं. वह खेल की स्थिति का आकलन शानदार तरीके से करते हैं. वह मैच को आखिर तक ले जाते हैं, जहां सिर्फ वही जानते है कि उनके दिमाग में क्या चल रहा हैं. वह अंतिम ओवरों में बड़े शॉट खेलने का माद्दा रखते हैं.’’

कोहली के शतक से कई खिलाड़ियों के रिकॉर्ड खतरे में, एडिलेड में दिखी तूफानी पारी

कैप्टन कोहली भारतीय टीम को 299 रन के लक्ष्य तक नहीं पहुंचा सके, लेकिन धोनी और दिनेश कार्तिक (14 गेंद में 25 रन) ने 57 रन की अटूट साझेदारी कर चार गेंद शेष रहते लक्ष्य हासिल कर लिया. उन्होंने कहा, ‘‘आप खुद को प्रोत्साहित करने के लिए छोटी-छोटी चीजों पर ध्यान देते हो और फिर लय हासिल कर लेते हो और मैं यही करने की कोशिश कर रहा था.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मेरे कपड़ों में पसीने के सफेद दाग लगे हैं. धोनी भी थक गए होंगे. क्षेत्ररक्षण में 50 ओवर तक खड़े रहने के बाद बल्लेबाजी करना मुश्किल था.’’ भारतीय कप्तान ने तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार की अंतिम ओवरों में की गई गेंदबाजी की भी तारीफ की.

एडिलेड वनडे के बाद सोशल मीडिया पर छाए धोनी, सहवाग-सचिन ने की जमकर तारीफ

एडिलेड वनडे के बाद सोशल मीडिया पर छाए धोनी, सहवाग-सचिन ने की जमकर तारीफ

विराट ने कहा, ‘‘हम उन्हें अंतिम ओवरों में रन बनाने से रोकना चाहते थे. जब मैक्सी (ग्लेन मैक्सवेल) और शॉन (मार्श) बल्लेबाजी कर रहे थे तब हमें लगा कि वे मैच को हमसे दूर ले जाएंगे. दोनो को दो गेंद में आउट करना शानदार रहा. मुझे लगा इस विकेट पर 298 का लक्ष्य चुनौतीपूर्ण था.’’ मार्श की शतकीय पारी से ऑस्ट्रेलिया ने बड़ा स्कोर खड़ा कर लिया लेकिन भारतीय बल्लेबाज ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों पर भारी पड़े. इधर, ऑस्ट्रेलिया के कप्तान आरोन फिंच ने कहा, ‘‘जब आप भारतीय टीम जैसी बल्लेबाजी इकाई के खिलाफ खेलते हैं तो आपको पता होता है कि लगातार अंतराल पर विकेट लेना जरूरी है और धोनी भी मैच हमसे दूर ले गए. भारत को इसका श्रेय जाता है, उन्होंने अच्छा खेल दिखाया.’’