मोहाली: भारतीय क्रिकेट टीम के नए बल्लेबाजी कोच विक्रम राठौड़ ने मंगलवार को  कहा कि टीम के युवाओं को स्पष्ट संदेश दे दिया गया है कि वे ‘बेपरवाह खेल और लापरवाह खेल’ के बीच अंतर है और उन्हें उसे समझना होगा. यह संदेश विशेषकर ऋषभ पंत जैसे युवाओं को दिया गया है जिनकी लापरवाह क्रिकेट के लिए लगातार आलोचना होती रही है.राठौड़ ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टी20 मैच की पूर्व संध्या पर कहा, ‘‘कभी हम तकनीक पर जोर देते हैं. इस स्तर पर मानसिकता अहम होती है. अपनी रणनीति सही तरह से लागू करनी होती है. जहां तक ऋषभ का सवाल है वह बेजोड़ खिलाड़ी है, उसे अपनी रणनीति को स्पष्ट करना होगा. उसे अपनी क्रिकेट में कुछ अनुशासन दिखाना होगा.’’ Also Read - IPL 2020 आयोजन से पहले BCCI दुबई में कर सकता है विशेष ट्रेनिंग कैंप का आयोजन, ये है वजह

दूसरे T-20 में दक्षिण अफ्रीका पर बढ़त बनाने उतरेगा भारत, पंत के लिए ‘करो या मरो’ की स्थिति Also Read - रिषभ पंत बोले- इस बल्‍लेबाज के साथ खेलते वक्‍त दिमाग लगाने की जरूरत ही नहीं पड़ती

उन्होंने कहा, ‘‘सभी युवा खिलाड़ियों को पता होना चाहिए कि बेपरवाह क्रिकेट और लापरवाह क्रिकेट में अंतर होता है. टीम प्रबंधन जो आपको कह रहा है वह बेपरवाह यानि निडर होकर क्रिकेट खेलना है. आपकी स्पष्ट रणनीति और सोच होनी चाहिए लेकिन इसके साथ ही आप लापरवाह नहीं हो सकते हो.’’ कप्तान विराट कोहली ने हाल में कहा था कि युवाओं को उच्चस्तर पर पांच से अधिक अवसरों की उम्मीद नहीं करनी चाहिए जिस पर राठौड़ टिप्पणी कर रहे थे. Also Read - एमएस धोनी ने विराट कोहली को ज्यादा अच्छे खिलाड़ी नहीं दिए थे : गौतम गंभीर

राठौड़ ने कहा, ‘‘उन्होंने (कोहली और मुख्य कोच रवि शास्त्री) पांच मैच कहा है लेकिन कोई संख्या तय नहीं है. उनके कहने का मतलब था कि आपको मौकों का फायदा उठाना चाहिए. वे (युवा) इतनी अधिक क्रिकेट खेल रहे हैं. वे अच्छा प्रदर्शन करके यहां तक पहुंचे हैं. मुझे नहीं लगता कि यह बड़ा मसला है. टीम उनका पूरा समर्थन करेगी.’’

बीसीसीआई एसीयू प्रमुख ने बताएं सट्टेबाजी के फायदे, कहा- मैच फिक्सिंग नियम पर विचार होना चाहिए

पंत से की जा रही उम्मीदों के बारे में राठौड़ ने कहा, ‘‘ हम चाहते हैं कि वह नैसर्गिक शॉट खेले. इससे ही वह खास बनता है. वह प्रभाव छोड़ने वाला खिलाड़ी है लेकिन इसके साथ ही लापरवाह नहीं हो सकते हो.’’ मनीष पांडे और श्रेयस अय्यर की मध्यक्रम में वापसी के बारे में उन्होंने कहा, ‘‘ये दोनों बहुत अच्छे क्रिकेटर हैं और उन्होंने घरेलू क्रिकेट में बहुत अच्छा प्रदर्शन किया है. श्रेयस ने (वेस्टइंडीज के खिलाफ वनडे में) अच्छा खेल दिखाया. मनीष पहले अच्छा प्रदर्शन करता रहा है और घरेलू क्रिकेट में लगातार अच्छा खेल दिखाकर उसने वापसी की है. मुझे पूरा विश्वास है कि वे अच्छा प्रदर्शन करेंगे. उन्हें बस अपने खेल में निरंतरता लाने की जरूरत है.’’