नई दिल्ली: भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने जल्द ही रिलीज होने वाली डाक्यूमेंटरी में कहा कि उनके लिये सबसे बड़ा अपराध हत्या करना नहीं बल्कि मैच फिक्सिंग करना होगा. धोनी डॉक्यूमेंट्री में खुलकर अपनी बात कहते हुए नजर आ रहे हैं.

स्पाट फिक्सिंग के लिये दो साल के निलंबन के बाद चेन्नई सुपरकिंग्स की पिछले साल आईपीएल में वापसी पर केंद्रित इस डाक्यूमेंटरी ‘रोर ऑफ द लायन’ के 45 सेकेंड के ट्रेलर में धोनी ने कहा, ‘‘टीम इसमें (मैच फिक्सिंग) में शामिल थी, मुझ पर भी आरोप लगा था. यह हम सभी के लिये कठिन दौर था. वापसी करना भावुक क्षण था और मैंने हमेशा ही कहा है, जिस चीज से आपकी मौत नहीं होती, वो आपको मजबूत बनाती है.’’ यह डाक्यूमेंटरी 20 मार्च से हाटस्टार पर दिखायी जायेगी.


धोनी ने 2018 में चेन्नई फ्रेंचाइजी की अगुवाई करते हुए तीसरा आईपीएल खिताब दिलाया और टूर्नामेंट में स्वप्निल वापसी की. टीम पर 2013 स्पाट फिक्सिंग प्रकरण में इसके प्रबंधन की भूमिका के लिये दो साल का प्रतिबंध लगा था. अब धोनी टीम इंडिया के साथ ही दुनिया के लीजेंड खिलाड़ियों में गिने जाते हैं.