भारतीय टेस्ट क्रिकेट विशेषज्ञ चेतेश्वर पुजारा का कहना है कि उनके 50वें फर्स्ट क्लास सेंचुरी से भारत के आगामी टेस्ट दौरे से पहले उनका आत्वमविश्वास बढ़ेगा. Also Read - India vs England: अक्षर की तारीफ करते-करते ये गुजरात को लेकर क्या बोल गए विराट कोहली! क्यों आई रविंद्र जडेजा की याद

इस ऑस्ट्रेलियाई विकेटकीपर ने कही कुछ ऐसी बात जिसेे सुनकर MS Dhoni हो जाएंगे गदगद Also Read - 2 दिन में टेस्ट मैच जीतकर भारत ने रचा इतिहास, इन 5 कारणों के चलते विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप का फाइनल खेलेगी टीम इंडिया

पुजारा उन 9 भारतीय बल्लेबाजों के विशेष क्लब में शामिल हो गए हैं जिनके नाम पर 50 या इससे अधिक फर्स्ट क्लास शतक दर्ज हैं. इस सूची में सुनील गावस्कर, सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ जैसे दिग्गज बल्लेबाज शामिल हैं. Also Read - Pink Ball Test: हार के बाद बोले इंग्लिश कप्तान Joe Root, अगर ऐसा कर देते तो हारते नहीं

पुजारा यह बात स्वीकार करते हैं कि टी-20 क्रिकेट की लोकप्रियता लगातार बढ़ रही है लेकिन उन्होंने उम्मीद जताई कि पारंपरिक टेस्ट प्रारूप भी काफी समय तक बना रहेगा.

पुजारा ने वेबसाइट ‘ईएसपीएनक्रिकइंफो’ से कहा, ‘समय बदल रहा है और सफेद गेंद का क्रिकेट लोकप्रिय बन गया है. लेकिन टेस्ट क्रिकेट हमेशा विशेष है और यह हमेशा विशेष रहेगा. साथ ही हम उम्मीद लगाते हैं कि यह जितना संभव हो, उतने समय तक जारी रहे.’

आईसीसी ने हाल में प्रस्ताव दिया कि 2023 से टेस्ट क्रिकेट को चार दिवसीय कर दिया जाए लेकिन इसे, खेल के कुछ महान खिलाड़ियों जैसे सचिन तेंदुलकर और रिकी पोंटिंग से कड़े विरोध का सामना करना पड़ा.

ICC Women’s T20 World Cup 2020: भारतीय टीम का ऐलान, हरमनप्रीत करेंगी कप्‍तानी, एक नया चेहरा भी शामिल

भारतीय टीम न्यूजीलैंड दौरे पर दो मैचों की टेस्ट सीरीज खेलेगी. यह सीरीज इसलिए अहमियत रखती है क्योंकि वहां एक जीत से भारत शुरूआती विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के 2021 में होने वाले फाइनल के करीब पहुंच जाएगा.

‘यदि ऐसे दौरों से पहले इस तरह की उपलब्धि हासिल करते हैं तो आपका मनोबल बढ़ता है’

शनिवार को कर्नाटक के खिलाफ सौराष्ट्र के लिए रणजी ट्रॉफी ग्रुप बी मैच में पुजारा ने शतकीय पारी खेली थी. बकौल पुजारा, ‘अगर आप ऐसे दौरों से पहले इस तरह की उपलब्धि हासिल करते हैं तो आपका मनोबल बढ़ता है और आप अपने खेल पर ज्यादा भरोसा करना शुरू कर देते हो.’

पुजारा ने कहा, ‘ऐसा इसलिए है क्योंकि जब आप विदेश जाते हो तो आप चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में खेलते हो और आपको अपने खेल पर भरोसा करना होता है और अपनी तैयारियों पर विश्वास रखना होता है.’

प्रथम श्रेणी क्रिकेट में सक्रिय खिलाड़ियों की सूची में 31 साल के पुजारा चौथे स्थान पर हैं. उनका स्थान इंग्लैंड के पूर्व कप्तान एलिस्टर कुक (65), दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान हाशिम अमला (52) और भारत के वसीम जाफर (57) के बाद आता है.