इंग्लैंड क्रिकेट टीम के स्टार ऑलराउंडर बेन स्टोक्स (Ben Stokes) ने एशेज सीरीज (Ashes Series 2019) के तहत हेडिंग्ले में खेले गए टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बेहतरीन पारी खेल अपनी टीम को जीत दिलाई थी.Also Read - Ashes में इंग्लैंड की हार के लिए आईपीएल को दोष देना बेवकूफी: Kevin Pietersen

Also Read - एशेज ड्रिंक्स मामले में नई भूमिका सामने आने के बाद बर्खास्त होंगे इंग्लैंड के सहायक कोच ग्राहम थोर्प

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटरों के ब्रेक पर जाने पर इस दिग्गज ने उठाए सवाल, ‘महामारी’ से कर दी तुलना Also Read - एशेज सीरीज में हार के लिए जो रूट का सीमित ओवर फॉर्मेट पर उंगली उठाना हास्यास्पद है: इयोन मोर्गन

स्टोक्स हाल के दिनों में अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं. अपनी नई किताब ‘ऑन फायर’ में स्टोक्स ने खुलासा किया है कि हेडिंग्ले में उनके अकेले दम पर टीम को जीत दिलाने का श्रेय ऑस्ट्रेलिया के सलामी बल्लेबाज डेविड वॉर्नर (David Warner) को जाता है.

स्टोक्स का कहना है कि वॉर्नर ने उस मैच में उन्हें फब्तियां कसकर परेशान कर दिया था. इसलिए इस जीत का श्रेय वॉर्नर के परेशान करने के प्रयासों को जाता है.

इंग्लिश ऑलराउंडर ने कहा कि वह वॉर्नर ही थे जिन्होंने उन्हें प्रेरित किया और उनकी टीम को बचाया जिससे उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई टीम को ट्रॉफी रखने से रोक दिया था.

टेस्ट सीरीज में पाकिस्तानी बल्लेबाजी क्रम को तहस-नहस करने को तैयार ये ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज

स्टोक्स ने ‘डेली मिरर’ में प्रकाशित किताब के अंश में खुलासा किया, ‘मुझे तीसरे दिन शाम के समय मैदान में कुछ बातें कही गई थीं और उनके कारण ही मैं ज्यादा ही प्रेरित किया. कुछ ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी कुछ ज्यादा ही बोल रहे थे, लेकिन डेविड वॉर्नर मुझे ज्यादा ही परेशान करता दिख रहा था.’

उन्होंने कहा, ‘वह चुप ही नहीं हो रहे थे. मैं किसी और से तो यह सब सुन भी लेता, लेकिन सच कहूं तो उससे नहीं.’ वर्ल्ड कप फाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले स्टोक्स ने हेडिंग्ले टेस्ट में नाबाद 135 रन की पारी खेली थी.