ICC World Cup 2019 Final, England vs New Zealand: बराबरी की टक्कर के बावजूद ‘चौकों-छक्कों की गिनती’ के आधार पर वर्ल्ड से वंचित रह जाने का गम न्यूजीलैंड के खिलाड़ियों के लिए भुला पाना आसान नहीं है. किवी टीम के खिलाड़ी अपने-अपने तरीकों से इससे उबरने की कोशिश में हैं. तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट ने भी बताया है कि उन्होंने हार की हताशा से उबरने के लिए क्या प्लान किया है. वर्ल्ड में 17 विकेट लेने वाले बोल्ट इन सवालों के बीच स्वदेश लौटे हैं कि लगातार दूसरा विश्व कप फाइनल हारने की पीड़ा से वह कैसे उबरेंगे. बोल्ट ने कहा, ‘मैं चार महीने में पहली बार घर जाऊंगा. शायद अपने कुत्ते को लेकर समुद्र किनारे सैर को जाऊं और इसे भुलाने की कोशिश करूं. मुझे यकीन है कि वह मुझसे नाराज नहीं होगा.’

बोल्ट ने कहा, ‘इस हार को इतनी जल्दी नहीं भूल सकेंगे. आने वाले काफी साल तक यह नासूर बनकर टीस देती रहेगी.’ इंग्लैंड के खिलाफ विश्व कप फाइनल में निर्धारित ओवरों और सुपर ओवर में भी स्कोर बराबर रहने के बाद चौकों-छक्कों की गिनती के आधार पर न्यूजीलैंड हार गया. बोल्ट ने कहा कि वह 49वां ओवर नहीं भूल पा रहे हैं, जिसमें उन्होंने जिम्मी नीशाम की गेंद पर बेन स्टोक्स का कैच लिया, लेकिन पैर सीमारेखा से टकरा गया. उन्होंने कहा, ‘मैं उसे भुला नहीं पा रहा हूं. हम अजीब हालात में वह मैच हारे.’

यह पूछने पर कि क्या उन्हें लगता है कि टीम छली गई, उन्होंने ना में जवाब दिया. अपने कप्तान केन विलियम्सन की तरह गरिमा का परिचय देते हुए बोल्ट ने कहा, ‘दुनिया भर के क्रिकेटप्रेमियों में निराशा है. हमने सभी को निराश किया. हम सभी से माफी मांगते हैं.’

(इनपुट भाषा से)