कोविड- 19 के कारण एक साल के लिए स्थगित हुए टोक्यो ओलंपिक पर इस बार फिर कोरोना का संकट मंडरा रहा है. लेकिन ओलंपिक के आयोजक इसे सुरक्षित माहौल में संपन्न कराने की हर जरूरी कोशिश कर रहे हैं. ऐसे में इंटरनेशनल ओलंपिक समिति (IOC), जापानी आयोजक टोक्यो ओलंपिक के दौरान एथलीटों का रोजाना कोरोना टेस्ट करने पर सहमत हो गए हैं. यह फैसला आईओसी, टोक्यो आयोजक, जापानी सरकार और इंटरनेशनल पैरालंपिक कमिटी के बीच हुई बैठक के बाद लिया गया है.Also Read - पाकिस्तानी खिलाड़ी Arshad Nadeem को ट्रोल करने वालों पर भड़के Neeraj Chopra, वीडियो में दिया करारा जवाब

आईओसी ने एक बयान में कहा, ‘सैद्धांतिक रूप में, एथलीटों और एथलीटों के साथ निकटता (सपॉर्ट स्टाफ) वाले सभी लोगों का प्रतिदिन कोरोना टेस्ट किया जाएगा.’ टोक्यो ओलंपिक के लिए जारी प्लेबुक के अनुसार, टोक्यो ओलंपिक शुरू होने में अब 90 दिन से भी कम समय बचा है. खेलों की शुरुआत 23 जुलाई से होनी है. Also Read - कोविड की वजह से टोक्यो ओलंपिक के स्थगित होने से मुझे अपना खेल सुधारने में मदद मिली: नीरज चोपड़ा

इन खेलों में भाग लेने वाले प्रतिभागियों को सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करने या बाहर खाने की अनुमति नहीं है. साथ ही सभी प्रतिभागियों को जापान जाने से पहले दो बार कोविड टेस्ट कराना होगा. आयोजकों ने मार्च में फैसला किया था कि टोक्यो ओलंपिक के दौरान विदेशी दर्शकों आयोजन स्थलों पर प्रवेश करने की इजाजत नहीं दी जाएगी. Also Read - फिलहाल खेल पर ध्यान देना चाहता हूं, बायोपिक के लिए वक्त नहीं : नीरज चोपड़ा

इनपुट: IANS