Tokyo Olympics 2020: टोक्‍यो ओलंपिक में भारत को 13 साल पर स्‍वर्ण पद दिलाने वाले एथलीट नीरज चोपड़ा ने अपने मैच के बाद के पलों के बारे में बेहद रोचक जानकारी दी. नीरज ने बताया कि मैच खत्‍म होने के बाद उनका शरीर काफी दर्द कर रहा था, लेकिन जिस तरह के नतीजे उन्‍हें मिले हैं उसके बाद ये दर्द आसानी से झेल लिया गया.Also Read - Tokyo Olympics में हारकर भी इतिहास रचने वाली भवानी देवी की तलवार हो सकती है आपकी! जानें पाने का तरीका

नीरज कुमार (Neeraj Chopra) सहित सभी भारतीय एथलीट रविवार को टोक्‍यो ओलंपिक के खत्‍म होने के बाद सोमवार को भारत पहुंचे. खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने सभी पदक विजेता एथलीट के सम्‍मान में एक विशेष समारोह का आयोजिन किया. इस दौरान भाला फेंक प्रतियोगिता में ओलंपिक स्वर्ण जीतने वाले नीरज चोपड़ा ने कहा कि उन्हें पता था कि फाइनल में दूसरे प्रयास में उन्होंने भाले को 87.48 मीटर की दूरी तक फेंककर कुछ विशेष किया है. चोपड़ा ने इस दूरी के साथ स्वर्ण पदक अपने नाम किया. Also Read - Kaun Banega Crorepati 13 में होगी 'गोल्डन ब्यॉय' Neeraj Chopra और पीआर श्रीजेश की एंट्री, मचेगा धमाल

नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) ने कहा, ‘‘मुझे पता था कि मैंने कुछ विशेष कर दिया है, असल में मैंने सोचा कि मैंने अपना निजी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया है. मेरी थ्रो काफी अच्छी गई थी.’’
चोपड़ा का निजी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 88.07 मीटर है जो उन्होंने इसी साल हासिल किया था. ‘‘अगले दिन मेरे शरीर ने महसूस किया कि वह प्रदर्शन इतना विशेष था, शरीर दुख रहा था लेकिन यह दर्द सहन करने में कोई समस्या नहीं थी. यह पदक पूरे देश के लिए है.’’ Also Read - Neeraj Chopra का सपना पूरा, माता-पिता को पहली बार कराया 'हवाई सफर'

भारतीय सेना के 23 साल के इस खिलाड़ी ने कहा कि देश के खिलाड़ियों के लिए उनका एकमात्र संदेश यह है कि कभी भी डरो नहीं.

‘‘मैं सिर्फ इतना कहना चाहता, विरोधी चाहे कोई भी हो, अपना सर्वश्रेष्ठ दो. आपको बस यही करने की जरूरत है और इस स्वर्ण पदक के यही मायने हैं. कभी विरोधी से मत डरो.’’

चोपड़ा (Neeraj Chopra) ने खेलों से पहले अपने लंबे बाल कटवा दिए थे और जब इस बारे में उनसे पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लंबे बाल पसंद हैं लेकिन मैं गर्मी से परेशान हो रहा था, लंबे बालों से काफी पसीना आता था. इसलिए मैंने बाल कटवा दिए.’’