Tokyo Olympics 2020, Ravi Kumar Dahiya vs Zaur Uguev, Men’s Freestyle 57kg Wrestling Final: भारतीय रेसलर रवि कुमार दहिया (Ravi Kumar Dahiya) को टोक्यो ओलंपिक में ‘रजत पदक’ के साथ संतोष करना पड़ा. आरओसी के जावुर युवुगेव (Zaur Uguev) ने रवि को पुरुषों के 57 किलो वर्ग के फाइनल मुकाबले में 7-4 से मात दी. इसी के साथ भारत ओलंपिक इतिहास में पहली बार कुश्ती में गोल्ड मेडल अपने नाम करने से चूक गया. युवुगेव ने अपने बेहतरीन रक्षण का नजारा पेश किया और अंकों के आधार पर यह मुकाबला 7-4 से जीता. युवुगेव ने शुरुआती अंक बनाया, लेकिन रवि ने जल्द ही स्कोर 2-2 कर दिया. रूसी खिलाड़ी ने फिर से बढ़त हासिल कर दी. रवि पहले राउंड के बाद 2-4 से पीछे थे. दूसरे राउंड में भी युवुगेव ने एक अंक बनाकर अपनी बढ़त मजबूत की. रवि दूसरे राउंड में भी दो अंक ही जुटा सके.Also Read - Neeraj Chopra का सपना पूरा, माता-पिता को पहली बार कराया 'हवाई सफर'

युवुगेव दो बार के विश्व चैंपियन (2018, 2019) रह चुके हैं. जिस साल (2019) में उगयेव ने नूर सुल्तान में विश्व चैंपियनशिप का सोना जीता था, उसी वर्ष रवि ने इसी वर्ग में कांस्य अपने नाम किया था. वह मौजूदा एशियाई चैंपियन (2020, 2021) और अंडर-23 विश्व चैंपियनशिप (2018) के रज पदक विजेता हैं. Also Read - Kapil Dev की मांग, खेल उपकरणों पर से हटे टैक्‍स, तभी देश से निकलेंगे चैंपियंस

Also Read - पाकिस्तानी खिलाड़ी Arshad Nadeem को ट्रोल करने वालों पर भड़के Neeraj Chopra, वीडियो में दिया करारा जवाब

बता दें कि कुश्ती में भारत का यह दूसरा रजत पदक है. इस खेल में लंदन ओलंपिक में सुशील कुमार रजत पदक जीत चुके हैं. सुशील कुमार ने 2008 बीजिंग ओलंपिक में ब्रॉन्ज, जबकि 2012 लंदन ओलंपिक में सिल्वर मेडल अपने नाम किया था. लंदन ओलंपिक में योगेश्वर दत्त ने भी कांस्य पदक जीता था. वहीं साक्षी मलिक रियो ओलंपिक 2016 में कांसे का तमगा अपने नाम कर चुकी हैं.

केडी जाधव भारत को कुश्ती में पदक दिलाने वाले पहले पहलवान थे, जिन्होंने 1952 के हेलसिंकी ओलंपिक में कांस्य पदक जीता था. उसके बाद सुशील ने बीजिंग में कांस्य और लंदन में रजत पदक हासिल किया. सुशील ओलंपिक में दो व्यक्तिगत स्पर्धा के पदक जीतने वाले अकेले भारतीय थे, लेकिन बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने टोक्यो में कांस्य जीतकर बराबरी की.