Tokyo Olympics 2020: टोक्‍यो में जारी ओलंपिक 2020 के दौरान बायो-बबल उल्‍लंघन (Bio-Bubble Breach) के मामले सामने आए हैं. ऐसे छह खिलाड़ी पाए गए हैं जिन्‍होंने तय नियमों का उल्‍लंघन करते हुए पूरे टूर्नामेंट को ही खतरे में डाल दिया है. टोक्‍यो ओलंपिक के आयोजकों ने इन छह एथलीट्स पर कार्रवाई की है. भारत का कोई भी एथलीट इसमें शामिल नहीं है.Also Read - Neeraj Chopra का सपना पूरा, माता-पिता को पहली बार कराया 'हवाई सफर'

खबर के मुताबिक टाक्यो ओलंपिक के आयोजकों ने कहा है कि उन्होंने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिये बनाये गए नियमों का उल्लंघन करने वाले छह एथलीट्स को बाहर का रास्‍ता दिखा दिया है. इन एथलीट्स में जॉर्जिया के दो रजत पदक विजेता भी शामिल हैं. Also Read - नीरज चोपड़ा, सुमित अंतिल की सफलता के बाद क्रिकेट जितना लोकप्रिय होगा भालाफेंक: अनुराग ठाकुर

खेलों के मुख्य कार्यकारी तोशिरो मूतो ने कहा कि जॉर्जिया के दो जूडो खिलाड़ी बाहर घूमने चले गए जो ओलंपिक में स्वास्थ और सुरक्षा प्रोटोकॉल संबंधी प्लेबुक का उल्लंघन है. वाजा एम और लाशा एस को मंगलवार को उनकी प्रतिस्पर्धा खत्म होने के बाद टोक्यो टावर के पास देखा गया. Also Read - उत्कृष्टता हासिल करने के लिए विराट कोहली को फॉलो करना चाहते हैं पीआर श्रीजेश

मूतो ने कहा कि जॉर्जिया दूतावास ने इसके लिये माफी मांगी है. बाकी चार में ब्रिटेन और अमेरिका के ठेकेदार शामिल हैं जो ओलंपिक शुरू होने से पहले कथित तौर पर कोकीन के सेवन के दोषी पाये गए.

टोक्‍यो ओलंपिक में आज भारतीय बैडमिंटन में पीवी सिंधू का अहम मुकाबला है. सिंधू आज रजत पदक की दौड़ में अपना मुकाबला खेलेंगी. वहीं, हॉकी टीम का भी आज टोक्‍यो ओलंपिक के 10वें दिन अहम मैच होना है. अब देखना होगा कि भारत आज अपनी मेडल की तालिका में कुछ इजाफा कर पाता है या नहीं.