Tokyo Olympics 2020, Women’s Discus Throw: भारत की महिला डिस्कस थ्रोअर कमलप्रीत कौर (Kamalpreet Kaur) ने टोक्यो ओलंपिक-2020 के फाइनल में जगह बना ली है. कमलप्रीत ने शनिवार को क्वालिफिकेशन ग्रुप-बी में अपने तीसरे प्रयास में 64 मीटर का ऑटोमेटिक क्वालीफाईंग मार्क हासिल कर फाइनल का टिकट हासिल किया. हालांकि सीमा पुनिया (Seema Punia) को बाहर का रास्ता देखना पड़ा है, जो क्वालिफिकेशन ग्रुप-ए में तमाम प्रयासों के बावजूद 60.57 मीटर के साथ छठा स्थान हासिल कर सकीं.Also Read - Neeraj Chopra का सपना पूरा, माता-पिता को पहली बार कराया 'हवाई सफर'

क्वालीफाईंग ग्रुप-ए में 15 और बी में 16 एथलीट शामिल थीं. इन दोनों ग्रुपों से कुल 12 टॉप एथलीट फाइनल में पहुंचेंगी, जिन्होंने ऑटोमेटिक क्वालीफाई किया है, उनके अलावा श्रेष्ठ दूरी तय करने वाली एथलीट वरीयता क्रम में आ जाएंगी. ग्रुप-बी से कमलप्रीत कौर के अलावा अमेरिका की वेराले अलामान (Valarie Allman) ने 66.42 मीटर के साथ ऑटोमेटिक क्वालीफाईंग मार्क हासिल कर लिया. मापी गई दूरी के लिबाज से ग्रुप-ए से तीन और ग्रुप-बी से नौ एथलीटों ने फाइनल के लिए क्वालीफाई किया है. Also Read - Kapil Dev की मांग, खेल उपकरणों पर से हटे टैक्‍स, तभी देश से निकलेंगे चैंपियंस

Also Read - पाकिस्तानी खिलाड़ी Arshad Nadeem को ट्रोल करने वालों पर भड़के Neeraj Chopra, वीडियो में दिया करारा जवाब

ग्रुप-बी में शामिल कमलप्रीत ने पहले प्रयास में 60.29 मीटर की दूरी नापी. इसके बाद दूसरे प्रयास में वह 63.97 तक पहुंच गईं. इस दूरी के साथ भी वह फाइनल के लिए क्वालीफाई करती दिख रही थी लेकिन उनकी कोशिश ऑटोमेटिक क्वालीफाईंग मार्क हासिल करना था और तीसरे प्रयास में वह 64 मीटर के साथ वहां पहुंच ही गईं.

सीमा की अगर बात करें तो उनके लिए शुरुआत अच्छी नहीं हुई थी. सीमा ने सबसे पहले थ्रो किया, लेकिन वह अपने पहले प्रयास में फाउल करार दी गईं. हालांकि दूसरे प्रयास में उन्होंने 60.57 मीटर का थ्रो किया. अपने तीसरे प्रयास में भी 64 मीटर के क्वालिफिकेशन मार्क को नहीं छू सकीं. उन्होंने 58.93 मीटर का खराब थ्रो किया. सीमा के ग्रुप में सबसे बेहतर थ्रो क्रोएशिया की सेंड्रा पेरकोविच का रहा. पेरकोविच ने 63.75 मीटर का थ्रो लिया.