भारत की अवनी लखेड़ा (Avani Lekhara) ने टोक्यों पैरालिंपिक में भारत को पहला गोल्ड मेडल दिला दिया है. अवनी ने सोमवार को शूटिंग की 10 मीटर एयर राइफल SH1 स्पर्धा में यह मेडल अपने नाम किया. लखेड़ा ने फाइनल में 249.6 का स्कोर हासिल कर यह मेडल अपने नाम किया, जो पैरालिंपिक खेलों में वर्ल्ड रिकॉर्ड की बराबरी है. यह टोक्यो पैरालिंपक में भारत का अब तक चौथा पदक है.Also Read - Tokyo Paralympics 2020: भारत ने जीते 5 गोल्ड, 8 रजत और 6 ब्रॉन्ज मेडल, ये हैं हमारे पदकवीर

अपनी पहली बार पैरालिंपिक खेलों में भाग ले रही हैं और उन्होंने अपने डेब्यू पैरालिंपिक खेलों में ही गोल्ड जीतकर अपने इस सफर की शानदार शुरुआत की है. अवनि पैरालंपिक खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वालीं पहली भारतीय महिला खिलाड़ी हैं. उनकी इस उपलब्धि के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अपने टि्वटर हैंडल पर उन्हें इस कीर्तिमान के लिए बधाई दी है. Also Read - Tokyo Paralympics 2020: टोक्‍यो में ऐतिहासिक प्रदर्शन के बाद PM Narendra Modi करेंगे भारतीय एथलीट की मेजबानी

Also Read - Tokyo Paralympics 2021: रियो पैरालंपिक तक जीते थे कुल 12 पदक, टोक्‍यो में 19 पदक के साथ भारत ने रचा इतिहास

प्रधानमंत्री ने लिखा, ‘शानदार प्रदर्शन अवनी लखेड़ा. कड़ी मेहनत के साथ स्वर्ण जीतने पर बधाई. आप इसकी पूरी हकदार थीं. आपके मेहनती स्वभाव और शूटिंग के प्रति जुनून के कारण संभव हुआ सोना. यह वास्तव में भारतीय खेलों के लिए एक विशेष क्षण है. आपके भविष्य के प्रयासों के लिए शुभकामनाएं.’

10 मीटर एयर राइफल के फाइनल से पहले उन्होंने 7वें स्थान पर रहते हुए क्वॉलीफिकेशन राउंड से फाइनल में अपनी जगह बनाई थी, यहां उनका कुल स्कोर 621.7 रहा. क्वॉलीफिकेशन राउंड में अवनी की शुरुआत धीमी रही थी और वह पिछड़ती दिख रही थीं लेकिन इससे पहले की बाजी उनके हाथ से निकल जाती उन्होंने समय रहते शानदार वापसी की और फाइनल में अपनी जगह पक्की कर ली.

उन्होंने अपने तीसरे और चौथे प्रयास में 104.9, 104.8 का स्कोर हासिल किया. फाइनल राउंड में उनका स्कोर 104.1 रहा, जिसके दम पर फाइनल में उन्होंने अपनी जगह बना ली. इससे पहले भारत के लिए भाविना पटेल ने टेबल टेनिन में सिल्वर, निशाद कुमार ने हाई जंप में सिल्वर और विनोद कुमार ने डिस्कस थ्रो में ब्रॉन्ज मेडल रविवार को अपने नाम किए थे.