Tokyo Paralympics 2020: टोक्यो पैरालम्पिक्स (Tokyo Paralympics) में डिस्कस थ्रो में विनोद कुमार (Vinod Kumar) ने इतिहास रच दिया है. विनोद कुमार ने चक्का फेंक एफ-52 फाइनल (Discus Throw F52 final) में 19.91 मीटर के साथ कांस्य पदक जीत लिया. इसके साथ टोक्यो पैरालम्पिक्स में भारत में अब तक तीन मेडल अपने नाम कर लिए हैं. विनोद कुमार ने जैसे ही मेडल जीता भारत में ख़ुशी की लहर दौड़ गई.Also Read - Tokyo Paralympics 2020: भारत ने जीते 5 गोल्ड, 8 रजत और 6 ब्रॉन्ज मेडल, ये हैं हमारे पदकवीर

हरियाणा के रोहतक के रहने वाले विनोद कुमार के घर मेडल जीतते ही मिठाई बांटी जानी शुरू हो गई. सभी एक दूसरे को मिठाई खिलाने लगे. इस दौरान के वीडियो में देखा जा सकता है कि एक दूसरे को मिठाई खिलाने के दौरान परिवार के लोग इतना भावुक हैं कि लगातार उनकी आँखों से आंसू आ रहे हैं. विनोद कुमार की पत्नी भी भावुक होकर रोते हुए दिखती हैं. Also Read - Tokyo Paralympics 2020: टोक्‍यो में ऐतिहासिक प्रदर्शन के बाद PM Narendra Modi करेंगे भारतीय एथलीट की मेजबानी

Also Read - Tokyo Paralympics 2021: रियो पैरालंपिक तक जीते थे कुल 12 पदक, टोक्‍यो में 19 पदक के साथ भारत ने रचा इतिहास

मेडल जीतकर इतिहास रचने वाले विनोद कुमार की पत्नी अनीता ने आंसू पोंछते हुए कहा कि ‘मैं इस जीत से बहुत ख़ुश हूँ. उन्होंने बहुत मेहनत की और 10 महीने से परिवार और बच्चों से दूर थे. मैं उन्हें बेहद प्यार करती हूँ.’ इतना कहते हुए अनीता फिर से अपने आंसू पोंछती हैं.

बता दें कि पीएम मोदी ने भी ट्वीट पर विनोद कुमार को इस जीत के लिए बधाई दी है. टोक्यो पैरालम्पिक में भारत की अच्छी शुरुआत हुई है. इससे पहले टेबल टेनिस और रजत पदक आ चुके हैं. अब विनोद कुमार ने तीसरा मेडल जीता है.