नई दिल्ली : टीम इंडिया और ऑस्ट्रेलिया के बीच एडिलेड में 6 दिसंबर से टेस्ट सीरीज का पहला मैच खेला जायेगा. इससे पहले ट्रेविस हेड स्पिन बॉलर रविचन्द्रन अश्विन का सामना करने के लिए जूनियर खिलाड़ी हैरी नील्सन की हेल्प लेंगे. नील्सन भी हेड की तरह बायें हाथ के बल्लेबाज हैं. उन्होंने टीम इंडिया के खिलाफ प्रैक्टिस में शतक जड़ा था. इस दौरान नीलसन ने अश्विन का काफी अच्छे से सामना किया था. अश्विन ने अभ्यास मैच में 2 विकेट लेकर 122 रन दिए थे.

हेड ने एडिलेड टेस्ट से पहले कहा, ‘‘हैरी नील्सन ने अभ्यास मैच में उसका अच्छी तरह सामना किया इसलिए मैं उससे बात (अश्विन का सामना करने को लेकर) करने को लेकर उत्सुक हूं.’’

अश्विन को अपने करियर के दौरान बायें हाथ के बल्लेबाजों के खिलाफ काफी सफलता मिली है और ऑस्ट्रेलिया की प्लेइंग इलेवन में कम से कम चार बायें हाथ के बल्लेबाजों को जगह मिलने की उम्मीद है. हेड ने हालांकि कहा कि उनके बल्लेबाज भारत की चुनौती से निपटने में सक्षम हैं.

टीम इंडिया के खिलाड़ी पहुंचे एडिलेड, 6 दिसंबर से ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ होगा पहला टेस्ट

उन्होंने कहा, ‘‘इससे पहले आईपीएल में मैंने अश्विन का सामना किया है लेकिन टेस्ट क्रिकेट में उसके खिलाफ खेलने का अधिक अनुभव नहीं है. लेकिन हमारे पास ऐसे बल्लेबाज हैं जो स्पिन को अच्छी तरह खेल सकते हैं. देखिये ये सिर्फ एक स्पिनर की बात नहीं है. अगर हम छह दायें हाथ के बल्लेबाजों के साथ खेलते हैं तो वे रविंद्र जडेजा को खिलाएंगे जो अच्छा गेंदबाज है. मुझे लगता है कि यह अच्छा मुकाबला होगा.’’

हेड का मानना है कि ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज भारतीय कप्तान विराट कोहली पर दबाव बनाने में सफल रहेंगे जो पहले भी दो बार ऑस्ट्रेलिया का दौरा कर चुके हैं और इस दौरान एडिलेड में तीन शतक सहित कुल पांच शतक जड़ चुके हैं. उन्होंने कहा, ‘‘मुझे उसे गेंदबाजी नहीं करनी इसलिए मुझे उसकी कमजोरी ढूंढने की जरूरत नहीं है. लेकिन मुझे लगता है कि स्थिति हमारे गेंदबाजों के नियंत्रण में होगी.’’

बायें हाथ के इस बल्लेबाज ने कहा, ‘‘हमारे तीन तेज गेंदबाजों का सामना करना आसान नहीं है. आखिर वह भी इंसान है और अगर हम उस पर पर्याप्त दबाव बनाने में सफल रहे तो यह काम कर सकता है.’’

टीम इंडिया के ये 5 खिलाड़ी टेस्ट में करेंगे बेस्ट, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बनेंगे ‘गेम चेंजर’

हेड ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया की टीम अपने शब्दों की जगह अपने काम में आक्रामकता लाने की कोशिश करेगी. उन्होंने कहा, ‘‘मैंने काफी टेस्ट क्रिकेट नहीं खेला है. एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में बाउंड्री पर क्षेत्ररक्षण करते हुए यह आसान नहीं होता कि आप कुछ बोलें. लेकिन मुझे यकीन है कि हम प्रतिस्पर्धी क्रिकेट खेलने का प्रयास करेंगे और आक्रामक होने की कोशिश करेंगे. शब्द हल्के होते हैं. यह सब आपके काम में झलकना चाहिए.’’

पाकिस्तान के खिलाफ यूएई में दो टेस्ट खेलने वाले हेड को उम्मीद है कि उन्हें आगामी श्रृंखला में खेलने का मौका मिलेगा क्योंकि स्मिथ और वार्नर की गैरमौजूदगी में टीम का बल्लेबाजी क्रम अब तक स्थिर नहीं हो पाया है. भारत जब पिछली बार एडिलेड में खेला था जो स्पिनर नाथन लायन ने ऑस्ट्रेलिया के लिए 286 रन देकर 12 विकेट चटकाए थे और मेजबान टीम बल्लेबाजी की अनुकूल पिच पर 48 रन से जीतने में सफल रही थी.