पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (PCB) के सूत्रों ने बताया है कि बल्लेबाज उमर अकमल (Umar Akmal) ने अनुशासनात्मक समिति के समक्ष संदिग्ध सट्टेबाजों के साथ दो मुलाकात की जानकारी देने से इनकार कर दिया था। Also Read - पाकिस्तान के लाहौर में कोरोना वायरस के 6,70,000 मामले! रिपोर्ट में चौकाने वाला दावा

अनुशासनात्मक समिति ने इसके बाद अकमल को तीन साल के बैन की सजा सुनाई। सूत्रों के अनुसार अकमल ने लाहौर की डिफेंस हाउसिंग सोसाइटी में दो अज्ञात लोगों के साथ मुलाकात की थी। Also Read - नस्लवाद के खिलाफ आवाज उठाए क्रिकेट जगत, वर्ना वो भी है समस्या का हिस्सा : सैमी

पीसीबी के एक विश्वसनीय सूत्र ने पीटीआई को बताया, ‘‘उमर ने दावा किया कि ये दोनों व्यक्ति उनसे डिफेंस हाउसिंग सोसाइटी में उनके दोस्त की पार्टी में मिले थे। लेकिन उन्होंने भ्रष्टाचार रोधी अधिकारियों को ये तक बताने से इनकार कर दिया कि इन मुलाकातों के दौरान क्या चर्चा हुई।’’ Also Read - प्रवासी मजदूरों को खाना-पानी बांटने में जुटे भारतीय गेंदबाज मोहम्मद शमी

सूत्र ने बताया, ‘‘यहां तक कि जब भ्रष्टाचार रोधी अधिकारियों ने कराची में 19 और 20 फरवरी के बीच की रात की रिपोर्ट उसे दी तो अकमल ने स्वीकार किया कि इस मुलाकात की जानकारी नहीं देकर उसने गलती की लेकिन कोई भी जानकारी देने से इनकार कर दिया।’’

पीसीबी की भ्रष्टाचार रोधी संहिता के तहत अकमल को दो आरोपों का दोषी पाया गया और 27 अप्रैल को उन्हें 19 फरवरी 2023 तक क्रिकेट से जुड़ी सभी गतिविधियों से प्रतिबंधित कर दिया गया।

अकमल के पास एक साथ चलने वाले तीन साल के दो प्रतिबंधों के खिलाफ अपील करने के लिए 14 दिन का समय है। अकमल के करीबी सूत्रों ने बताया कि उन्होंने इस मामले में कुछ वकीलों के साथ सलाह मशविरा शुरू कर दिया है और अपील दायर करेंगे।