कराची। पाकिस्तान क्रिकेट टीम के खिलाड़ी उमर अकमल ने दावा किया कि टीम के मुख्य कोच मिकी आर्थर ने लाहौर स्थित राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) में उनके साथ बदतमीजी की. उमर ने कहा, ‘मैं अपने उस बयान पर कायम हूं जिसमें मैंने आर्थर पर बदसलूकी का आरोप लगाया था. उन्होंने मेरे साथ पहले अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया और फिर बदसलूकी भी की. इंजमाम भाई (इंजमाम उल हक) और मुश्ताक भाई (मुश्ताक अहमद) इस घटना के प्रत्यक्षदर्शी हैं.

यह विवाद तब शुरू हुआ जब उमर इंग्लैंड से घुटने का इलाज और पुनर्वास कार्यक्रम के पूरा होने के बाद देश वापस लौटे और प्रशिक्षण के लिए अकादमी पहुंचे. उमर ने कहा कि वहां पहुंच कर उन्होंने बल्लेबाजी कोच ग्रांट फ्लावर से कहा कि उन्हें बल्लेबाजी अभ्यास की जरूरत है. उन्होंने कहा, ‘जब मैं वहां पहुंचा तब फ्लावर और टीम के फिजियो ग्रांट लुडेन ने मुझे वहां अभ्यास करने से मना कर दिया. उन्होंने कहा कि वे सिर्फ बोर्ड के अनुबंधित खिलाड़ियों के साथ काम करते हैं. इसके बाद मैं आर्थर के पास गया उन्होंने भी मुझे ऐसा ही जवाब देते हुए इंजमाम और मुश्ताक से बात करने को कहा.’

उमर ने कहा, ‘इंजमाम और मुश्ताक ने मुझे फिटनेस टेस्ट में असफल होने का हवाला देते हुए स्थिति को स्पष्ट किया और आर्थर के पास दोबारा जाने को कहा. जैसे मैं उनके पास दोबारा पहुंचा वह अपना आपा खो बैठे और मुझे क्लब क्रिकेट खेलने के लिए कहा. इसके बाद उन्होंने मेरे साथ बुरा व्यवहार किया और अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया. मैं सब कुछ बर्दाश्त कर सकता हूं लेकिन किसी को ऐसी भाषा इस्तेमाल करने का हक नहीं.

पीसीबी के एक प्रवक्ता ने कहा कि इस मामले में उमर के पास कारण बताओ नोटिस भेजा जाएगा क्योकि उन्होंने इस मुद्दे को मीडिया में उठा कर खिलाड़ियों के अनुबंध के नियम और शर्तों का उल्लंघन किया है. इसके जवाब में उमर ने कहा कि जब उन्हें नोटिस मिलेगा वह जवाब देंगे.