नई दिल्ली. मोहाली में टीम इंडिया की जीत और हार के बीच UPA दीवार बनकर खड़ी हो गई. भारत ने 359 रन जैसा विशाल स्कोर खड़ा किया लेकिन इसके बावजूद मोहाली का मैदान उसका न हो सका तो इसकी वजह रही UPA. सीधे शब्दों में कहें तो मोहाली वनडे में UPA से मिले समर्थन की बदौलत ही ऑस्ट्रेलिया अपनी बड़ी जीत की पटकथा लिखने में कामयाब रहा. और, इस बात को खुद भारतीय कप्तान विराट कोहली ने भी मैच में हार के बाद कबूला है.

ऑस्ट्रेलिया की जीत वाला UPA

हालांकि, यहां UPA का मतलब भारतीय राजनीति की यूनाइटेड प्रोग्रेसिव एलायंस से नहीं बल्कि ऑस्ट्रेलिया की जीत वाली तिकड़ी से है. मोहाली में जिन कंगारू बल्लेबाजों ने मिलकर ऑस्ट्रेलिया के लिए मैदान मारा उनके नामों का शॉर्ट फॉर्म बनता है UPA. U यानि उस्मान ख्वाजा, P यानि पीटर हैंड्सकॉम्ब और A यानि एस्थन टर्नर.

मोहाली में ऑस्ट्रेलिया के ‘कमाल’ से टीम इंडिया के साथ वनडे में पहली बार घटी ये बड़ी ‘घटना’

3 ‘कंगारू’ जीत पर उतारू

मोहाली वनडे में उस्मान ख्वाजा ने 91 रन की पारी खेली और पीटर हैंड्सकॉम्ब के साथ मिलकर तीसरे विकेट के लिए शतकीय साझेदारी भी की. पीटर हैंड्सकॉम्ब ने 117 रन की दमदार पारी खेली. इन दोनों के इस प्रयास के बावजूद भी जब ऑस्ट्रेलिया के लिए जीत का काम पूरा नहीं हुआ तो उसे अपने जोरदार धमाके से अमलीजामा पहनाया युवा बल्लेबाज एस्थन टर्नर ने. टर्नर ने मोहाली की सपाट पिच पर 43 गेंदों में नाबाद 84 रन बनाए.

UPA ने हराया- विराट

मैच के बाद भारतीय कप्तान विराट कोहली ने इन तीनों कंगारू बल्लेबाजों के प्रदर्शन को अपनी टीम की हार की बड़ी वजह करार दिया. उन्होंने कहा, “टर्नर ने खतरनाक पारी खेलकर मैच को टर्न कर दिया. हैंड्सकॉम्ब ने भी शानदार पारी खेली, जिसमें उन्हें दूसरे छोर से उस्मान ख्वाजा का बड़ा साथ मिला और यही मैच में हमारे खिलाफ गया.”