नई दिल्ली: दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेली गई चार टेस्ट मैचों की सीरीज में दक्षिण अफ्रीका ने 3-1 से जीत हासिल की. सीरीज का आखिरी मुकाबला जोहन्सबर्ग में खेला गया, जिसे अफ्रीकी टीम ने 492 रन से जीत लिया. इस मैच में टीम के बेहतरीन गेंदबाज वर्नोर फिलैंडर ने खतरनाक गेंदबाजी करते हुए अपने 200 टेस्ट विकेट पूरे किए. फिलैंडर टेस्ट क्रिकेट 200 या इससे ज्यादा विकेट लेने वाले सातवें खिलाड़ी हैं. उनसे पहले डेल स्टेन, मोर्ने मोर्कल और जैक कालिस जैसे दिग्गज गेंदबाज यह कारनामा कर चुके हैं.

चौथे टेस्ट मैच में दक्षिण अफ्रीका ने पहले बल्लेबाजी करते हुए ऑल आउट होने तक अपनी पहली पारी में 488 रन बनाए. वहीं इसके जवाब में ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में ऑल आउट होने तक 221 रन बनाए. इसके बाद दक्षिण अफ्रीका ने अपनी दूसरी पारी में 6 विकेट खोकर 344 रन बनाए. वहीं ऑस्ट्रेलियाई टीम दूसरी पारी में महज 119 रन पर सिमट गई. इस दौरान फिलैंडर ने 13 ओवर फेंके, जिनमें महज 21 रन देकर 6 विकेट झटके. फिलैंडर ने मैच के आखिरी दिन 7 ओवर फेंके. इस दौरान उन्होंने महज 3 रन देकर 6 विकेट अपने नाम किए. उन्होंने आखिरी 4 ओवर मेडन भी फेंके. यह फिलैंडर का रिकॉर्ड प्रदर्शन है.

करियर की बुलंदी पर मॉर्ने मॉर्केल ने इंटरनेशनल क्रिकेट को कहा गुडबाय

इस बेहतरीन प्रदर्शन की बदौलत फिलैंडर ने अपने 200 टेस्ट विकेट पूरे किए. उन्होंने 54 टेस्ट मैचों में यह मुकाम हासिल किया. इस दौरान उन्होंने 13 पांच या इससे ज्यादा विकेट झटके और 2 बार 10 विकेट हासिल किए हैं. फिलैंडर 200 टेस्ट विकेट लेने वाले दक्षिण अफ्रीका के सातवें गेंदबाज हैं. दक्षिण अफ्रीका के लिए सबसे ज्यादा टेस्ट विकेट लेने का रिकॉर्ड शॉन पोलक के नाम दर्ज है. उन्होंने 108 टेस्ट मुकाबलों में 421 विकेट झटके हैं. वहीं इस लिस्ट में दूसरे स्थान पर डेल स्टेन हैं. स्टेन ने 86 टेस्ट मैचों में 419 विकेट अपने नाम किए हैं. वहीं मोर्ने मोर्कल इस लिस्ट में पांचवें स्थान पर हैं. मोर्केल ने 86 टेस्ट मैचों में 309 विकेट लिए हैं.

VIDEO: रैना ने खेली तूफानी पारी, IPL से पहले छक्के जड़कर दी चेतावनी

बता दें कि दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेली गई चार टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला मैच ऑस्ट्रेलिया ने 5 विकेट से जीत लिया था. इसके बाद दूसरे टेस्ट मैच में दक्षिण अफ्रीका ने 6 विकेट से जीत हासिल की. यह मैच पोर्ट एलिजाबेथ में खेला गया. वहीं तीसरा टेस्ट मैच केपटाउन में खेला गया. इसे दक्षिण अफ्रीका ने 322 रन से जीत लिया. इसी मुकाबले में बॉल टेम्परिंग विवाद हुआ था. इसके बाद सीरीज का आखिरी मुकाबला जोहान्सबर्ग में खेला गया, जिसे अफ्रीकी टीम ने 492 रन से जीता.