नई दिल्ली. क्रिकेट में लास्ट बॉल से जुड़े कई किस्से हैं. आखिरी गेंद पर चमत्कारी जीत की कई कहानियां हैं. लेकिन, लास्ट बॉल की जो क्रिकेट स्टोरी और उसके नतीजे के वीडियो को हम आपके सामने रखने वाले हैं , यकीन मानिए न वैसा पहले आपने कभी देखा होगा और न ही सुना होगा. दरअसल, हुआ ये कि बैटिंग साइड को जीत के लिए मैच की आखिरी गेंद पर 6 रन की दरकार थी. यहां तक तो ठीक था. लेकिन चमत्कार तब हुआ जब बिना बल्ले से गेंद को टच किए ही ये 6 रन बैटिंग साइड के बन भी गए और एक गेंद शेष रहते उसे जीत भी मिल गई.

एक चमत्कार ऐसा भी

अब सवाल है कि इतना बड़ा चमत्कार हुआ कैसे. आखिरी गेंद, 6 रन और 1 गेंद बाकी रहते जीत, वो भी बिना बल्ला घुमाए. है न कमाल की बात. चलिए अब मैच के इस फुटेज के जरिए इस सस्पेंस से हम आपका पर्दा उठा देते हैं.

वीडियो में साफ है कि बैटिंग साइड को बिना बल्ला घुमाए जीत कैसे मिल गई. दरअसल, गेंदबाज ने आखिरी गेंद को सही लाइन लेंथ पर फेंकने के बजाए अगली 6 गेंदें वाइड फेंक दी. शायद उसके अंदर ये डर रहा होगा कि बल्लेबाज उस पर बड़ा हिट लगा सकता है. ये डर उस पर हावी हो गया और वो इस मुकाबले का सबसे बड़ा विलेन बन गया.

मुंबई में खेला गया मैच

बता दें कि ये मैच मुंबई के आदर्श क्रिकेट क्लब के ग्राउंड पर देसाई बनाम डोम्बीवली के बीच खेला गया था. डोम्बीवली ने देसाई की टीम को 76 रन का टारगेट दिया था, जिसका पीछा करते हुए वो इस मुकाम तक पहुंचे थे कि लास्ट बॉल पर 6 रन की दरकार थी. लेकिन तभी डोम्बीवली के गेंदबाज ने वो किया जिसे दोहराने से दुनिया का कोई भी गेंदबाज बचना चाहेगा.