नई दिल्ली: बंगाल के खिलाफ सीके नायडू ट्रॉफी मैच के दौरान उत्तर प्रदेश के बायें हाथ के युवा स्पिनर शिव सिंह के अजीबोगरीब बॉलिंग एक्‍शन पर विवाद खड़ा हो गया. हालांकि, अंपायर ने इस गेंद को डेड बॉल करार दिया, लेकिन सोशल मीडिया पर सवाल उठ रहे हैं कि यदि बल्‍लेबाज को स्विच हिट जैसे हथकंडों की छूट है तो गेंदबाजों को क्‍यों नहीं.

ये सवाल इसलिए उठ रहे हैं क्‍योंकि शिव अपनी बॉलिंग क्रीज में पहुंचकर पहले 360 डिग्री घूम गए, फिर गेंद फेंकी. बल्‍लेबाज ने इसे रखात्‍मक तरीके से खेला भी, 360 डिग्री रोटेशन को अंपायरों ने ‘डेड बॉल’ करार दिया. लेकिन उनका यह अजीबोगरीब एक्शन चर्चा का विषय बन गया. शिव पृथ्वी शॉ की अगुवाई वाली भारतीय अंडर-19 विश्व कप चैम्पियन टीम का सदस्य रह चुके हैं. अंडर 23 सी के नायडू ट्रॉफी के इस मुकाबले में वे बंगाल के खिलाफ उत्‍तर प्रदेश टीम का हिस्‍सा हैं.

टीम इंडिया की ‘लेडी सहवाग’ ने 200 की स्ट्राइक रेट से किया ‘धमाका’, इंग्लैंड की हार

भारत के बायें हाथ के स्पिनर बिशन सिंह बेदी ने इसकी वीडियो ट्वीट कर इसे ‘अजीब’ करार किया जिसके बाद 50 सेकंड का यह वीडियो वायरल हो गया है. शिव के इस गेंद को फेंकने से पहले ही अंपायर विनोद सेशन ने इसे डेड बॉल करार दिया था जिसके बाद यह गेंदबाज हताश हो गया. मैच कल्याणी में बंगाल क्रिकेट अकादमी मैदान पर खेला जा रहा था.

विराट कोहली और रवि शास्‍त्री के बयानों से खुश नहीं है बीसीसीआई, सीओए ने लगाई फटकार

मैच थोड़ी देर के लिये रुक गया क्योंकि अंपायर ने शिव को बताया कि एमसीसी के नियमों के अनुसार यह गेंद अवैध कैसे थी. सोशल मीडिया पर यह चर्चा चल रही है कि अगर बल्लेबाज को स्विच हिट शॉट लगाने की अनुमति है तो एक गेंदबाज गेंद फेंकने के दौरान 360 डिग्री का रोटेशन क्यों नहीं कर सकता.