अनुभवी विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक (Dinesh Karthik) की अगुआई वाली तमिलनाडु और मनीष पांडे (Manish Pandey) की कप्तानी वाली कर्नाटक टीम विजय हजारे ट्रॉफी (Vijay Hazare Trophy) के फाइनल में शुक्रवार को आमने-सामने होंगी.

टक्कर बरबरी की होगी

दोनों  टीमों के बीच बराबरी की टक्कर होने वाली हैं जिसमें मजबूत बल्लेबाजी लाइन अप मौजूद है और बेहतरीन गेंदबाज मौजूद हैं. अनुभवी ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन की मौजूदगी से तमिलनाडु का आक्रमण और अनुभवी दिखता है जिसमें वैराइटी भी मौजूद है.

मयंक अग्रवाल, अश्विन और लोकेश राहुल पर होगी नजर

सभी की निगाहें भारतीय खिलाड़ी मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) , आर अश्विन (R. Ashwin) और लोकेश राहुल (Lokesh Rahul) के प्रदर्शन पर लगी होंगी. टीम इंडिया से ड्रॉप किए गए ओपनर राहुल (10 मैचों में 546 रन) ने इस घरेलू वनडे टूर्नामेंट के क्वार्टरफाइनल और सेमीफाइनल में शानदार प्रदर्शन किया है. राहुल के जोड़ीदार देवदत्त पडीक्कल (10 मैचों में 598 रन) ने भी अच्छी बल्लेबाजी की है.

नॉकआउट में भाग्यशाली रही तमिलनाडु की टीम

मनीष पांडे की अगुआई वाली कर्नाटक ने नॉकआउट मैचों में शानदार जीत हासिल की लेकिन लीग चरण में दबदबा बनाने वाली तमिलनाडु थोड़ी भाग्यशाली रही कि बारिश के नियम से उन्हें क्वार्टरफाइनल में पंजाब को पछाड़ने में मदद मिली जिसके बाद युवा एम शाहरूख खान (Shahrukh Khan) ने उन्हें गुजरात के खिलाफ सेमीफाइनल में जीत दिलाई.

तमिलनाडु के लिए वापसी का मौका

तमिलनाडु की टीम का प्रदर्शन पिछले दो सत्र में काफी खराब रहा है जिससे यह फाइनल उनके लिये वापसी का मौका हो सकता है जबकि 2018-19 सत्र में इतना अच्छा प्रदर्शन नहीं करने वाली कर्नाटक भी खिताब जीतकर शुरुआत करना चाहेगी.

लय में हैं मनीष पांडे

कर्नाटक के कप्तान मनीष पांडे भी अच्छी लय में हैं. उनकी तरह मयंक और टेस्ट टीम से बाहर चल रहे करुण नायर भी फाइनल में अपना दमखम दिखाना चाहेंगे.

बीसीसीआई के नए अध्यक्ष सौरव गांगुली से बातचीत को उत्साहित विराट कोहली

तमिलनाडु की बल्लेबाजी इकाई भी इतनी ही दमदार है जिसमें बाबा अपराजित ( Baba Aprajith, 480 रन), अभिनव मुकुंद ( Abhinav Mukund, 440 रन) और स्टाइलिश मुरली विजय (Murali Vijay) मौजूद हैं.

बतौर फिनिशर कार्तिक ने अच्छी भूमिका निभाई है

कप्तान दिनेश कार्तिक ने कुछ बेहतरीन पारियों से फिनिशर की अच्छी भूमिका अदा की है और फाइनल में भी उनसे इसी जिम्मेदारी को निभाने की उम्मीद की जाएगी. ऑलराउंडर विजय शंकर (Vijay Shankar) और युवा शाहरूख खान ने भी कुछ महत्वपूर्ण योगदान दिया है.

कर्नाटक के गेंदबाजों ने की धारदार गेंदबाजी

कर्नाटक की गेंदबाजी में कुछ नायक भी निकलकर आए जिसमें वी कौशिक (V Kaushik) शामिल है जिन्होंने छत्तीसगढ़ के खिलाफ सेमीफाइनल में चार विकेट झटके जबकि तेज गेंदबाजों में अनुभवी अभिमन्यु मिथुन (Abhimanyu Mithun) और प्रसिद्ध कृष्णा (Prasiddh Krishna) तथा स्पिनर के गौतम (K. Gowtham), श्रेयस गोपाल (Shreyas Gopal) और प्रवीण दुबे (Praveen Dube) ने विकेट हासिल किए.

मेजबान टीम के गेंदबाजों को तमिलनाडु के आत्मविश्वास से भरे बल्लेबाजों के सामने गेंदबाजी करनी होगी और उन्हें रोकना ही उनकी सफलता की कुंजी साबित होगा.

भालाफेंक में शिवपाल सिंह को गोल्ड, गुरप्रीत नेे कांस्य पर साधा निशाना

अश्विन और लेग स्पिनर मुरूगन अश्विन इस बात से वाकिफ हैं कि चिन्नास्वामी स्टेडियम की छोटी बाउंड्री गेंदबाजों के लिए मुश्किलों भरी हो सकती है तथा उनके लिए राहुल, मयंक और अन्य बल्लेबाजों को रोकना बहुत कठिन होगा.

अहम होंगे नटराजन, मोहम्मद और विग्नेश

तमिलनाडु के मध्यम गति के गेंदबाज टी नटराजन, एम मोहम्मद और के विग्नेश अहम होंगे क्योंकि शुरू में विकेट चटकाने से मैच पर काफी अंतर पड़ सकता है.